सीताफल के फायदे और नुकसान - Sitafal(Sharifa) ke Fayde aur Nuksan in Hindi

सीताफल (शरीफ़ा) के फ़ायदे और नुकसान (Custard Apple (Sitafal) Benefits and Side Effects in Hindi, Sitafal (sharifa fruit) ke Fayde aur Nuksan in Hindi):
सीताफल (Sitaphal fruit / Sharifa fruit) का उपयोग अनेक प्रकार के रोगों के उपचार और सौंदर्य प्रसाधनों में एक आवश्यक घटक के रूप में किया जाता है। सीताफल (Sita fruit / Seetaphal) खाने के फ़ायदे, इसमें मौजूद गुणकारी और पोषक तत्वों के कारण, अनेक हैं। शरीफ़ा (Sharifa fruit), एक शीत – ऋतु असहिष्णु (सर्दी सहन ना करने वाली) और अर्ध-सदाबहार झाड़ी है; इसमें 2 – 3 वर्षों में एक बार फल और पुष्प आते हैं। शरीफ़ा फल का गूदा सुगंधित, स्वाद में मीठा और रंग से सफ़ेद होता है एवम् इसके फल के प्रत्येक खंड में एक बीज पाया जाता है।

1. सीताफल(शरीफ़ा) क्या है? - What is Sugar Apple in Hindi?
2. सीताफ़ल में पोषक तत्व - Sugar(Custard) Apple Nutrition in Hindi
3. सीताफल (शरीफ़ा )के फ़ायदे - Sitafal Ke Fayde in Hindi

4. शरीफ़ा (सीताफल)कैसे खाया जाए ? - How to Eat Custard Apple (Sitafal) in Hindi?
5. सीताफल के नुकसान - Sitafal Ke Nuksan in Hindi

सीताफल(शरीफ़ा) क्या है? - What is Sugar Apple in hindi?

सीताफल या शरीफ़ा, एन्नोना की सबसे व्यापक प्रजाति एन्नोना स्क्वामोसा (Annona squamosa) का फल होता है। मूलत: यह अमेरिका के उष्ण्कटिबंधीय क्षेत्रों में पाया जाता था और स्पैनिश व्यापारियों द्वारा एशियाई देशों में लाया गया था। मेक्सिको में इसके पुराने नाम अटे को आज भी, बंगाली और पुर्तगाली भाषा के अटा, नेपाली भाषा के आटि, सिन्हली भाषा के माटि अनोदा, बर्मा की भाषा में  अव्ज़ार थी और फ़िलिपींस की भाषा में अटिस आदि, प्रचलित शब्दों के माध्यम से पाया जाता है। मुख्य भारतीय भाषाओं में सीताफल (Sitafal fruit / Seethaphal) को निम्नलिखित शब्दों से पहचाना जाता है: -
  • हिंदी-मराठी-पंजाबी-गुजराती आदि में – सीताफल या शरीफ़ा
  • तमिल – सीताप्पलम या सीतापज़म
  • तेलुगु – सीताफलमु
  • मलयालम – सीता पज़म

सीताफ़ल में पोषक तत्व - Sugar(Custard) Apple nutrition in hindi

  • शरीफ़ा ऊर्जा का पर्याप्त स्त्रोत है। शरीफ़ा फल के गुणों में विटामिन सी (Vitamin C) के साथ-साथ, मैंगनीस, आयरन, मैगनीशियम, फ़ॉस्फ़ोरस, पोटैशियम और बी1, बी2, बी3, बी5, बी6, और बी9 विटामिनों के होने से यह इन सबका एक बेहतरीन स्रोत है। पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम, सोडियम और ज़िंक के साथ इसमें फ़ाइबर, फ़ैट और प्रोटीन भी पाया जाता है।
  • सीताफल / शरीफ़ा फल (Sita fruit / Shareefa fruit) खाने के विभिन्न स्वास्थ्य – लाभ - Various health benefits of Custard Apple fruit:-
  • इसके अनेक लाभ हैं जो कि, किसी के रोगों और शारीरिक विषमताओं को दूर करके, व्यक्ति के व्यक्तिगत स्वास्थ्य एवम् सौंदर्य दोनों को बेहतर करता है। शरीफ़ा खाने के फ़ायदों में शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों (free radicals) से लड़ने की क्षमता में वृद्धि, हृदय रोगों से रोकथाम में सहायता, रक्तचाप (blood pressure) पर नियंत्रण, पाचन क्रिया को सुचारु करना इत्यादि सम्मिलित हैं। सीताफल का सेवन एक ऐसा स्वास्थ्यवर्धक नुस्खा है जिसके फ़ायदे निम्नलिखित हैं|

सीताफल (शरीफ़ा )के फ़ायदे - Sitafal ke fayde in hindi

मधुमेह ग्रस्त रोगियों के लिए शरीफ़ा फल (Sharifa fruit) के फ़ायदे - Custard apple for diabetes in hindi

  • टाइप 2 मधुमेह रोगियों के लिए शरीफ़ा फल के गुण अत्यंत लाभदायक हैं। कई औषधीय अनुसंधानों से यह सिद्ध हो चुका है कि सीताफल में वह यौगिक सम्मिलित हैं जो रक्त में शुगर / शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने के साथ उसे सुधारने में भी सहायक हैं। इस कारण यह टाइप 2 मधुमेह को बढ़ने से भी रोकने में सक्षम है।
  • चिकित्सकीय निष्कर्ष से यह जाना गया कि शरीफ़ा के उपयोग से मधुमेह रोगियों के रक्त में शर्करा / शुगर को अवशोषित करने वाली प्रक्रिया को धीमा करने के औषधीय गुण मौजूद हैं जिससे यह अतिरिक्त रक्त – शर्करा की वृद्धि को रोकता है।
  •  इतना ही नहीं, शरीफ़ा फल के गुण में डाइटरी फ़ाइबर (dietary fiber) की पर्याप्त मात्रा की उपस्थिति, रक्त – शर्करा के अवशोषण पर नियंत्रण पाने में भी सहायक है।

( और पढ़े - डायबिटीस के लक्षण और निदान )

शारीरिक भार / वज़न कम करने के लिए शरीफ़ा फल (Shareefa fruit) खाने के फायदे -  Benefits of sitafal for weight loss in hindi

  • उचित शारीरिक भार, एक स्वस्थ व्यक्ति के दृश्य लक्षणों में से एक है। स्वास्थ्य सम्बंधी अधिकांश समस्याएँ, प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से, अत्यधिक वज़न या मोटापे के कारण होती हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, शरीफ़ा के उपयोग से बढ़े हुए वज़न पर नियंत्रण के साथ – साथ उसे घटाने में भी मदद मिलती है।
  • इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स (antioxidants) मौजूद होने के कारण, यह शरीर से विषाक्त तत्वों को बाहर निकाल कर वज़न पर नियंत्रण देता है।
  • शरीफ़ा का उपयोग सामान्य फल अथवा किसी मीठे पकवान जैसे पाई या कस्टर्ड में किया जा सकता है और नियमित सेवन से बढ़े हुए वज़न में घटाव पाया जा सकता है।

( और पढ़े - वजन कम करने के तरीके )

शरीफ़ा फल के गुण का कैंसर पर प्रभाव - Sitaphal benefits for cancer in hindi

  • सीताफल एक ऐसा औषधीय गुणों वाला फल है जिसमें शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स (antioxidants) हैं जो कि कैंसर की रोकथाम में अत्यंत प्रभावशाली है। सीताफल के फायदे से कैंसर को बढ़ाने वाली कोशिकाएँ नष्ट होती हैं एवम् उन्हें शरीर के अन्य हिस्सों में फ़ैलने से रोका जा सकता है।
  • शरीफ़ा में, एसिटोजेनिन (acetogenin) और एलोनॉइड (alkonoid) नामक एंटी-ट्यूमर घटक शामिल हैं जो एक प्राकृतिक कैंसर – निवारक औषधिकी तरह कार्य करते हैं और शरीर की कोशिकाओं के DNA में होने वाले नुकसान से बचाते हैं।
  • मानव शरीर में होने वाले विभिन्न प्रकार के कैंसर में शरीफ़ा के सेवन से महत्वपूर्ण और अत्यंत प्रभावी लाभ होता है।

( और पढ़े - सिर्फ 45 दिनों में केंसर बीमारी का कैसे करें इलाज़ )

आँखों के लिए सीता फल खाने के लाभ - Shareefa fruit benefits for eyes in hindi

  • सीताफल में राइबोफ़्लेविन (riboflavin) या विटामिन बी2 (Vitamin B2) होता है जो आँखों के लिए एक अत्यंत महत्वपूर्ण तत्व है।
  • आश्चर्यजनक रूप से, सीताफल के गुण में संतरे से भी अधिक मात्रा में विटामिन सी (Vitamin C) उपलब्ध होता है जो कि आँखों को स्वस्थ रखता है।
  • शरीफ़ा, शरीर में मौजूद फ़्री रैडिकल्स (Free Radicals) को नष्ट करने में एक सक्रिय भूमिका निभाता है, जो कि आँखों को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

( और पढ़े - काले घेरो से छुटकारा कैसे पाए सिर्फ कुछ दिनों में )

पाचन तंत्र के लिए शरीफ़ा (Sharifa) खाने के फ़ायदे - Custard Apple benefits (Shareefa ke labh) for digestion in hindi

  • सीताफल डाइटरी फ़ाइबर (dietary fiber) का एक बेहतरीन स्रोत है। इस फल में तांबे या कॉपर (copper) के भी अंश होने के कारण यह पाचन क्रिया में मदद करता है।
  • इसके अतिरिक्त, शरीफ़ा फल के सेवन से, कब्ज़ और अपच जैसी उदर – विकार सम्बंधी समस्याओं से त्वरित लाभ मिलता है क्योंकि यह एक उत्तम प्रकार का प्राकृतिक लैक्ज़ेटिव (laxative) है।
  •  शरीफ़ा, LDL कोलेस्टेरॉल को नष्ट करने और बाइल जूस (bile juice) को अवशोषित करने के काम आता है।

( और पढ़े - पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के उपाय )

सीताफल (Seetha fruit) खाने के लाभ से मुहाँसों का उपचार - Sitafal ke fayde (Sitaphal benefits) for acne in hindi

  • इस फल में विटामिनों और एंटीऑक्सीडेंट्स की उपस्थिति के कारण, शरीफ़ा, त्वचा के कायाकल्प के लिए एक प्राकृतिक उपचार है।
  • त्वचा के घावों, चोटों आदि के जल्दी ठीक होने में भी सीताफल के फायदे बहुत कारगर है। यह शरीर में कोलाजेन (Collagen) नामक प्रोटीन के उत्पादन में सहायक है जो हमारी त्वचा को स्वस्थ रखता है।
  • एक्ज़िमा (Eczema) और सोराइसिस (Psoriasis) जैसी परिस्थियों में, शरीफ़ा फल के वनस्पति – दूध या लेटेक्स (latex) के, त्वचा के प्रभावित स्थान पर, सीधे उपयोग से लाभ मिलता है।

( और पढ़े -  एलोवेरा से करे पिम्पल्स और मुहसो का इलाज )

सीताफल (Sitafal fruit) का उपयोग गठिया की रोकथाम में  - Custard apple (Sita fruit health benefits) for arthritis in hindi

  • शरीफ़ा के एक अन्य औषधीय गुण में सम्मिलित है, इसमें पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम की उपस्थिति। मैग्नीशियम, शरीर में पानी को संतुलित रखता है और इस प्रकार जोड़ों में जमा होने वाले अम्लों / एसिडों को शरीर से बाहर निकालता है।
  • सीताफल के सेवन से गठिया की सम्भावना को बहुत हद तक कम किया जा सकता है।
  • औषधीय अनुसंधान से यह निष्कर्ष निकला है कि शरीफ़ा की पत्तियों का काढ़ा रूमेटिक गठिया (Rheumatic Arthritis) से होने वाली सूजन की सम्भावना को कम करता है।

( और पढ़े - ऐसे करे गठिया के दर्द का इलाज )

सीताफल (Sharifa) का सेवन का प्रभाव हृदय पर - Sitafal ke fayde (Sharifa fruit benefits) for heart in hindi

  • सीताफल के फल में सोडियम और फ़ैट के निम्न स्तर के कारण, यह हृदय और उच्च रक्तचाप रोगियों (high blood pressure) के लिए अत्यंत लाभदायक है।
  • सीताफल में पोटैशियम की अधिक मात्रा होने की वजह से यह हृदय के स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • शरीफ़ा का फल एंटीऑक्सीडेंट्स के माध्यम से कोलेस्टेरॉल स्तर को भी नियंत्रित करता है जो कि हृदय के स्वास्थ्य पर अनुकूल प्रभाव डालता है।

वज़न बढ़ाने के लिए सीताफल (Sitaphal) का उपयोग - Uses of Custard Apple (Seetaphal) benefits for weight gain in hindi

  • शारीरिक भार या वज़न घटाने के साथ – साथ, सीताफल का उपयोग वज़न बढ़ाने के लिए भी किया जाता है।
  • दूध में शरीफ़ा के फल (Sharifa fruit) का गूदा और थोड़ी मात्रा में शहद को मिला कर पीने से कुछ दिनों में वज़न बढ़ना शुरु हो जाता है।
  • जो व्यक्ति कम शारीरिक भार वाले हैं उनके लिए शरीफ़ा का उपयोग, वज़न बढ़ाने का प्राकृतिक उपाय है।

( और पढ़े - एक महीने में वजन बढ़ाने के उपाय )

सीताफल के औषधिए गुण का प्रभाव रक्तचाप या ब्लड प्रेशर पर - Custard Apple (sitaphal) benefits for blood pressure in hindi

  • पोटैशियम और मैगनीशियम जैसे घटकों के कारण, शरीफ़ा का उपयोग, रक्तचाप नियंत्रण में अत्यंत महत्वपूर्ण पाया गया है।
  • सीताफल (Sitafal fruit) के सेवन से कोलेस्टेरॉल शरीर में न्यूनतम स्तर पर रहता है और इस कारण उच्च रक्तचाप की रोकथाम में सहायता मिलती है।
  • इसमें मौजूद सोडियम भी रक्तदाब को नियंत्रित करके शारीरिक स्वास्थ्य को दुरुस्त रखता है और सम्भावित गम्भीर हृदय रोगों से भी बचाता है।

( और पढ़े - हाई ब्लड प्रेशर के घरेलु उपचार )

शरीफा​ का उपयोग त्वचा सम्बंधी रोगों और सौंदर्य के लिए - Sitafal ke fayde for skin in hindi

  • शरीफ़ा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स (anti-oxidants) मुक्त कणों (free radicals) से होने वाली क्षति को प्रभावशाली ढंग से रोकते हैं और त्वचा को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • शरीफ़ा (Shareefa) विटामिन ए (Vitamin A) के गुणों से भरपूर होता है जो त्वचा की कोशिकाओं और ऊतकों के पुनर्निर्माण में सहायता करता है, जिससे त्वचा की चमक और निखार बना रहता है।
  • शरीर में कोलाजेन नामक प्रोटीन के उत्पादन में सहायक यह सीताफल, त्वचा को लचीलापन प्रदान करता है जिससे झुर्रियाँ दूर होती हैं एवम् त्वचा बुढ़ापे के लक्षणों से बचती है।

( और पढ़े - कम समय में अपनी त्वचा को बनाये खूबसूरत इन सौंदर्य टिप्स से )

सीताफल के फ़ायदे बालों की सुंदरता के लिए - Sitafal ke fayde for hair in hindi

  • शरीफ़ा (Sharifa) के सेवन से बालों मे होने वाली जूँ से छुटकारे में लाभ मिलता है। कच्चे सीताफल के पाउडर को पानी या नारियल तेल के साथ बालों मे लगाने से जूँ और लीख से मुक्ति मिलती है।
  • शरीफ़ा के बीज का तेल, बालों की नमी बनाए रखता है और बालों को चमकदार और घना बनाता है।
  • सीताफल (Sitaphal fruit) को खाने से होने वाले फ़ायदों में, बालों को आइरन का पोषण देकर उन्हें लम्बा करने और कॉपर का पोषण देकर उन्हें समयपूर्व सफ़ेद होने से बचाने, शामिल हैं।

( और पढ़े -  जल्दी बाल लम्बे करने का तरीका )

गर्भावस्था के दौरान सीताफल खाने के फ़ायदे - Sitaphal benefits for pregnancy in hindi

  • गर्भवती महिलाएँ यदि शरीफ़ा का सेवन करती हैं, तो विटामिन ए और सी (Vitamins A & C) की पर्याप्त मात्रा होने के कारण, यह गर्भस्थ शिशु की आँखों, त्वचा और बालों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • सीताफल कॉपर का भी अच्छा स्रोत है। गर्भवती महिलओं को सामान्यत: 1000 मिग्रा. कॉपर की प्रतिदिन आवश्यकता होती है जिससे गर्भस्थ शिशु का समुचित विकास हो सके। शरीफ़ा (Sharifa) खाने से समयपूर्व प्रसव से भी बचा जा सकता है।
  • शरीफ़ा के नियमित सेवन से गर्भस्थ शिशु के शरीर और विशेषत: मस्तिष्क के विकास में भी लाभ होता है। एंटीऑक्सीडेंट्स की अधिक मात्रा होने के कारण, सीताफल विभिन्न प्रकार के संक्रमणों की रोकथाम में भी सहायक है।

( और पढ़े -  गर्भवती स्त्री कैसे रखे अपना ख्याल  )

शरीफ़ा (सीताफल)कैसे खाया जाए ? - How to eat Custard Apple (sitafal) in hindi?

सीताफल के सेवन का सबसे आसान तरीका, उसे बीच से काटने या हाथों से ही दो हिस्से करने के बाद, चम्मच से उसका गूदा निकाल कर खाना है। शरीफ़ा के छिलके के पास का गूदा कम मीठा या कसैला हो सकता है। पके हुए सीताफल (Seethaphal) की पहचान उसका हल्के हरे रंग का छिलका है जिसमें प्राकृतिक मीठी सुगंध और रसभरा गूदा होता है। छिलका, सभी बीज और अधिक रेशेदार भाग को अलग करने के बाद, फ़ूड प्रोसेसर या ब्लेंडर में इसके गूदे की प्यूरी भी बना कर खाई जा सकती है। सीताफल को फ़िरनी, खीर, मिल्कशेक, आइसक्रीम, रबड़ी, स्मूदी आदि विविध प्रकार के व्यंजनों के रूप में भी खाया जा सकता है।

सीताफल के नुकसान - Sitafal ke nuksan in hindi

सीताफल (sitaphal) खाने के नुकसान - Custard Apple side effects/disadvantages in hindi

सीताफल / शरीफ़ा (Sitafal fruit / Sharifa fruit) खाने के वैसे तो अनेकों स्वास्थ्यवर्धक लाभ हैं; इसका अत्यधिक / करने अथवा इसके कुछ भागों (जैसे बीज) खाने से स्वास्थ्य – समबधी नुकसान भी होते हैं, जो निम्नलिखित हैं: -

  • शरीफ़ा के बीज विषैले होते हैं इसलिए इनका बिल्कुल भी सेवन नहीं करना चाहिए।
  • सीताफल के अत्यधिक सेवन से वज़न बढ़ने की भी सम्भावना रहती है; मध्यम मात्रा में सेवन करना चाहिए।
  • सीताफल में डाइटरी फ़ाइबर (dietary fiber) अधिक होता है, इसलिए अधिक मात्रा में खाने से आँतों में रुकावट (blockage) की सम्भावना बढ़ जाती है।
  • अधिक मात्रा में खाने से इसमें मौजूद आइरन पेट और आँतों में अल्सर की समस्या को जन्म दे सकता है।
  • इसके पोटैशियम के अधिक सेवन से अत्यधिक निम्न रक्तचाप (extreme low blood pressure) और श्वास – सम्बंधी परेशानियाँ हो सकती हैं।
  • इसके घटक, खाई जाने वाली दवाइयों में मौजूद रसायनों के साथ मिलकर, जटिल स्वास्थ्य समस्याएँ पैदा कर सकते हैं।
  • शरीफ़ा कब्ज़ को दूर करता है तो इसका अधिक सेवन कब्ज़ की समस्या को और गम्भीरकर सकता है।
अत: सीताफल को उसके औषधीय गुणों के कारण अल्प या मध्यम मात्रा में लेना स्वास्थ्य के लिए हर प्रकार से लाभदायी|
TAGS: #sitafal/sitaphal/seetaphal ke fayde aur nuksan in hindi #sitafal tree/sita fruit/shareefa fruit #custard apple in hindi #sitafal/sitaphal fruit #sharifa #custard apple in marathi #sitaphal benefits #benefits of sitafal #uses of custard apple #sitaphal seeds
Loading...

Leave a Comment

Your Name

Comment

0 Comments