एड़ी की हड्डी बढ़ने (Heel Spur) के रामबाण इलाज - Adi ki Haddi Badna ka ilaj

एड़ी

एड़ी की हड्डी बढ़ने का इलाज (Adi ki Haddi Badna ka ilaj) : एड़ी के दर्द के पीछे कई कारण है। माँसपेशियों और पट्टे (tendon) में सूजन हो या तो अतिशय श्रम के कारण खींचाव आ गया है तो इन का इलाज बहुत कठिन नहीं है। मगर कई बार ऐसा होता है की हड्डी ही बढ़ जाती है एड़ी में और इस के कारण तीव्र दर्द महसूस होता है, खास कर के यह अगर नसों पर दबाव डाले या तो दूसरी हड्डी या माँसपेशियों पर। जानिए एड़ी की हड्डी के बढ़ने के बारे में और एड़ी की हड्डी बढ़ने का इलाज।

एड़ी की हड्डी क्यों बढ़ती है? - Heel spur in hindi

एड़ी की हड्डी का बढ़ना क्यों होता है? एड़ी में दर्द ज़्यादातर plantar fasciitis और achilles tendinitis से होता है और इन से जुड़ा होता है हड्डी का बढ़ना। एड़ी की हड्डी और उस से संयुक्त हड्डी के बीच में कैल्शियम भी जमा हो सकता है और हड्डी का बढ़ाव 1/4 वें इंच से लेके 1 इंच तक पहुँच सकता है। 

एड़ी हड्डी बढ़ने के कारण कई है:

  • अगर पैरो मे रहीं माँसपेशियों और पट्टे पर ज़्यादा बोझ आए, श्रम पड़े और यह फट जाए तो फिर हड्डी के नीचे के भाग में जगह हो जाती है और कैल्शियम का स्तर बनने लगता है जिस को हील स्पर कहा जाता है। माँसपेशियों और पट्टे पर अतिशय श्रम पड़ता है अगर नंगे पैर दौड़े, बहुत रस्सी कूदें या चलने का ढंग सही ना हो।
  • ज़्यादा वजन होने से भी ऐसा होता है। 
  • बढ़ती उमर और डायबिटीज के कारण भी यह समस्या पैदा होती है।
  • लंबे समय तक खड़े रहे तो भी एड़ी का दर्द और एड़ी की हड्डी का ज्यादा विकास होना संभव है। 
  • बीमारियो में गठिया की बीमारी, ankylosing spondylitis और skeletal hyperostosis परिस्थिति हो तो भी यह परिस्थिति खड़ी हो सकती है। 

एड़ी की हड्डी बढ़ने के लक्षण - Symtoms of heel spur in hindi

  • ऐसे तो हड्डी थोड़ी बहुत बढ़ जाए तो कोई खास लक्षण नहीं होते है समस्या तब खड़ी होती है जब उस जगह पर जहाँ हड्डी बढ़ गयी है वहाँ पर सूजन हो जाए।
  • अगर सवेरे उठने पर ऐसा लगता है की कोई धारदार या नुकीली चीज़ की चुभन हो रही है पैरो के तलवे में और फिर दिन भर हल्का दर्द रहता है तो मानिए की यह एड़ी की हड्डी का बढ़ना और उस से होने वाले माँसपेशियों में सूजन के कारण है। 
  • अगर आराम करे तो दर्द थोड़ा कम होता है मगर फिर से चलने फिरने लगे और फिर आराम करे तो फिर दर्द फिर से शुरू हो जाता है। 
  • अगर हड्डी का ज़्यादा विकास हो गया है तो यह दिखाई देता है। 
  • पैरो को छूने पर जहाँ पर हड्डी बढ़ गयी है वहाँ पर तापमान ज़्यादा लगता है। 
  • Plantar fasciitis आम तौर पर हड्डी के बढ़ने से पता भी नहीं चलता है और सिर्फ़ एक्स-रे से दिखाई देगा की पैर की हड्डी बढ़ गयी है तो पैर की हड्डी बढ़ना कोई खास चिंता करने वाली बात नहीं है। अगर माँसपेशियों पर दबाव आया और सूज गये तभी दर्द पैदा होता है और तभी जाके इलाज करना ज़रूरी होता है।

एड़ी की हड्डी बढ़ने का इलाज - Edi ki haddi badhne ke ilaj 

पैर के तलवे में होता है plantar fascia जो एड़ी और अंगूठे को जोड़ता है। कई बार इस में सूजन हो, फट जाए या चोट लग जाए तो दर्द होने लगता है। इस को ग़लती से पैर की हड्डी बढ़ने के कारण होने वाला दर्द माना जाता है। यह ज़रूरी नहीं है, plantar fascia में सूजन से दर्द होता है मगर एड़ी की या पैरो में रहे 26 हड्डियो में से कोई भी हड्डी बढ़े तो आम तौर पर दर्द नहीं होता है। मगर यह हड्डी अगर पट्टा पर दबाव डाले तो फिर दर्द होना संभव है। ऐसे में एड़ी की हड्डी बढ़ने का इलाज अलग प्रकार से किया जाता है। 

  • एड़ी में दर्द हो तो मुख्यता माँसपेशियों और पट्टे के खींचाव और सूजन से होता है तो पैर की हड्डी बढ़ने का इलाज पहले तो यह है की पैर को बिल्कुल आराम दे 2-3 दीनो तक और इस पर कोई वजन ना डाले। 
  • एड़ी पर गरम सेक करे और फिर बर्फ के पोते लगाए तो सूजन और दर्द कम होगा plantar fascia में। 
  • अगर पैरो के तलवे में हड्डी बढ़ गयी है तो orthotic shoe पहने जो पैरो के तलवे याने एड़ी पर दबाव कम कर देते है। 
  • सूजन कम करने के औषध ले और साथ में एड़ी के दर्द का आयुर्वेदिक उपचार भी करे ताकि सूजन मिट जाए। 
  • डॉक्टर चिकित्सा कर के cortisone injection भी लगाएँगे ताकि दर्द और सूजन कम हो जाए। 

डॉक्टर फिर एक्स-रे करवाने का आदेश दे सकता है जिस से यह पक्का जान सके की हड्डी बढ़ गयी है और ठीक लगे तो एड़ी की हड्डी बढ़ने का इलाज में ऑपरेशन कर के बढ़ी हुए हड्डी को काट देते है मगर यह ख़ास परिस्थिति में होता है।

अगर कैल्शियम का स्तर बनता है तो इस के पीछे क्या कारण है यह भी जानना ज़रूरी है क्योंकि यह साधारण क्रिया नहीं है, इसलिए ब्लड कैल्शियम लेवेल का भी चेक अप करवाए और D3 विटामिन का भी। हो सके तो ऐसे सात्विक आहार ले  कि जिससे शरीर में आम और पर विष पैदा ना हो।

जब भी चलने या दौड़ने जाए तो सही जूते पहने ताकि पैरो के तलवे सुरक्षित रहे। खड़े रहके काम करना पड़ता है तो एक घंटे में एक बार 2-5 मिनिट तक अवश्य बैठे और पैरो को उपर उठा के रखे।

वजन ज़्यादा हो तो बोझ बढ़ जाता है पैरो पर तो वजन कम करने के प्रयास करे।  

यह है हड्डी बढ़ने के कारण एड़ी में और थोड़े एड़ी की हड्डी बढ़ने का इलाज जो आप को ज़रूर काम में आएँगे अगर ऐसे हालात खड़े हो जाए|

TAGS: #adi ki haddi badna ka ilaj #पैर की हड्डी बढ़ने का इलाज #पैर की हड्डी बढ़ना #एड़ी की हड्डी का बढ़ना #adi ki haddi badne ka ilaj #adi ki haddi badhne ke ilaj in hindi #edi in hindi

Loading...

Leave a Comment

Your Name

Comment

0 Comments