सुहागा के फायदे और नुकसान - Suhaga (Borax) Benefits and Side Effects in Hindi

सुहागा (बोरेक्स) के फायदे और नुकसान - Borax (Suhaga) Benefits and Side Effects in Hindi, Suhaga ke Fayde aur Nuksan in Hindi: What is borax in Hindi में जानिए। बोरेक्स एक रसायन है जिसका रसायनिक नाम है सोडियम टेतरबोरते। आयुर्वेद में एक हिस्सा है जड़ी बूटी का और एक है भस्मो का जो रसायन पर आधारित है जिसमें बोरेक्स है जिसे आयुर्वेद में टंकण खार या टंकण भस्म कहते है।Borax meaning in Hindi है सुहागाBorax in hindi में कनकक्षार, रासघन, धातुद्रवक, सूभग्या, टंकण और सुहाग चोकी भी कहते है। टंकण भस्म स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी है क्योंकि इसमें बोरॉन है जो हड्डी और हॉर्मोन के लिए आवश्यक खनिज पदार्थ है। बोरेक्स के औषध गुण कई है और सुहागा के फायदे कई है जो आप आगे पढ़ेंगे। जानिए सुहागा के लाभ, कैसे उपयोग करे और टंकण भस्म के नुकसान भी।

सुहागा के फायदे और नुकसान - Borax (Suhaga) Benefits and Side Effects in Hindi

  • सुहागा को चूसने से बैठी आवाज़ ठीक हो जाती है।
  • सुहागा मुँह के छालों को ठीक करता है।
  • सुहागा पीने से जुकाम ठीक हो जाता है।
  • सुहागा को आँखें लाल और सूजन होने पर इस्तेमाल करे।
  • सुहागा से शरीर से बदबू आना और पसीना आना बंद हो जाता है।
  • सुहागा कफ की समस्या को दूर करता है।
  • सुहागे के तेल से चमड़ी के रोगों में राहत मिलती है।

1. सुहागा के फायदे और नुकसान - Suhaga Ke Fayde Aur Nuksan in Hindi

2. टंकण भस्म के अन्य फायदे - Other Health Benefits of Borax in Hindi
3. सुहागा के नुकसान - Suhaga (Tankan Bhasma) Ke Nuksan in Hindi

सुहागा के फायदे और नुकसान - Suhaga ke fayde aur nuksan in hindi

सुहागा के फायदे मुँह मे नासूर के लिए - Borax Benefits for Mouth Ulcer in Hindi

  • Ulcer meaning in hindi है फोड़ा, छाले या नासूर। मुँह में नासूर या छाले पड़ गये हो तो आधा चम्मच बोरेक्स ले और आधा चम्मच ग्लिसरीन। अच्छी तरह मिला के मुँह मे नासूर या छाले पड़ गये है तो वहाँ पर लगाले।
  • सुहागा के फायदे मुँह मे पड़े छाले दूर करने के लिए उपाय है सुहागा, चुटकी कपूर और ग्लिसरीन का पेस्ट।
  • बोरेक्स के फायदे मुँह के छाले दूर करने के लिए पाना है तो बोरेक्स और एलोवेरा जेल मिला के फोड़े पर लगाए।
  • तवे पर सेके हुए सुहागा के साथ इलाइची को पीस दे और ज़बान पर लगाए तो फोड़े मिट जाएँगे।
  • ध्यान रखे की बोरेक्स निगल ना ले और 10 मिनिट तक रखने के बाद थूक दे।

( और पढ़े - एलो वेरा के फायदे और नुकसान )

सुहागा के लाभ आँखों में संक्रमण के लिए - Borax for eye infection in hindi

  • आँखों में कंजंक्टिवाइटिस हो जाए तो पानी गर्म करके सुहागा को इसमें पिघलाए और ठंडा होने दे और आँखों में 2-3 बूँद डाले, 10 मिनिट तक आँख बंद करके लेटे रहे।
  • होम्योपैथी में सुहागा के उपाय होते है कई अलग रसायनो के साथ मिलाके आँखो की सूजन और संक्रमण के लिए मगर सिर्फ़ बोरेक्स से भी फायदा होता है।
  • उपर बताए अनुसार बोरेक्स का पानी बना ले और सुहागा के लाभ लें आँखों के सूजन और लाल होने पर कपड़े को भिगोकर आँखों पर रखे 10 मिनिट तक।
  • सुहागा सीधा आँखों में ना डाले।
  • यह प्रयोग करने के बाद आँखो को साधारण पानी से धो दे।

( और पढ़े - आँखों की छाइयों (डार्क सर्कल) को हटाने का घरेलु उपाय )

सुहागा के फायदे फेफ़ड़ों से बलगम हटाने के लिए - Suhaga Benefits for Congestion And Tonsillitis in hindi

  • अंदरूनी उपयोग करे तो टंकण भस्म के नुकसान कई है क्योंकि यह रसायन है मगर बाहरी प्रयोग हो सकता है फेफड़े में बलगम भर जाने की परिस्थिति में।
  • सुहागा के लाभ फेफड़े में पानी भर गया हो तो गर्म पानी में पिघलाए सुहागा को, एक चम्मच सरसों का या अरण्डी का तेल डाले और 1/4th चम्मच कपूर मिलाए और फिर फेफड़े और गले पर मालिश करे।
  • टंकण भस्म के लाभ पाना है फेफड़े भर जाने पर तो सुहागा को गर्म पानी में पिघलाए, नमक डाले और गरारे करे।
  • चेस्ट कन्जेक्शन हो तो बोरेक्स पाउडर का उपयोग करे (borax powder in hindi) इस तरह: तवे पर सेके और पोटली में बांधकर छाती और पीठ पर सेक करे।
  • याद रखे की गरारे करे या बाहर से उपयोग करे तो बाद में सादे पानी से गरारे करे और बोरेक्स लगाए हुए जगह को धो दे।

( और पढ़े - सूखी खांसी का असरदार सरल घरेलू उपचार )

अंडकोष की वृद्धि और खुजली में सुहागा का उपयोग- Tankan Bhasma for growth of testicles and itching in hindi

  • अंडकोष में सूजन हो जाए या अतिशय बढ़ गये है तो यह कम करने के लिए सुहागा 10 ग्राम तवे पर सेक दे और 100 ग्राम गुड़ में मिलाए घी के साथ और हर रोज सवेरे खाए।
  • एक हफ्ते तक हर रोज सवेरे ये मिश्रण सेवन करे।
  • अगर अंडकोष में खुजली होती है तो बोरेक्स के फायदे उठाए। 100 ml पानी में 10 ग्राम बोरेक्स मिलाए और अंडकोष को दिन में 3 बार धोए इस पानी से।
  • ऐसा करने से खुजली बिल्कुल मिट जाएगी।
  • बोरेक्स अंडकोष वृद्धि और खुजली का इलाज करता है ध्यान रहे ढीले कपड़े पहने।

( और पढ़े - लिकोरिया/सफेद पानी के 20 रामबाण इलाज )

सुहागा का उपयोग करे कानो के रोगो का इलाज -  Suhaga benefits for karn kavak rog in Hindi

  • कर्ण कवक रोग में हर रोज कानो में चुटकी भर सुहागा दिन में 3 बार डालते रहे।
  • कानो में कीड़े हो तो सिरके के साथ सुहागा मिला के गर्म करके पिघलाए और ठंडा होने पर कानो में डाले तो कीड़े मर जाएँगे।
  • कर्ण रोग में सुहागा के फायदे पाने के लिए सरसों तेल में सुहागा मिलाके 1-2 बूँद कानो में आप डाल सकते है।
  • कर्ण रोग हो तो एक लीटर पानी में एक चम्मच सुहागा मिलाके उबाले और ठंडा करके हर रोज 2-3 चम्मच सेवन करे।
  • कर्ण रोग में अरंडी तेल में सुहागा या टंकण भस्म मिलाके अंदर मल दे रात को और सो जाए|

बोरेक्स का उपयोग महावारी से जुड़ी समस्या के लिए - Borax powder uses for menstrual problems in hindi

महिलाओ में महावारी से जुड़ी समस्या जैसे के लिए ¼ चम्मच सुहागा महावारी के समय 2-4 दीनो तक लेने से सभी समस्याओ का हल होगा।

  • बोरेक्स के लाभ महावारी में कष्टयुक्त मासिकस्राव (dysmenorrhea) या रजोरोध (amenorrhea) को ठीक करने में अमूल्य है।
  • टंकण भस्म स्वास्थ्य के लिए बेजोड़ है क्योंकि इससे कफ और वात का शमन होता है और अंदरूनी संतुलन सुधर जाता है जिससे महावरी नियमित हो जाती है।
  • PCOS याने पोलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (polycystic ovarian syndrome) हो तो सुहागा का सेवन करने से बहुत सुधार आ जाता है।
  • मासिक धर्म अनियमित हो तो लोधरा छाल और अशोका छाल का काढ़ा बनाए और थोड़ा सा सुहागा इसमें डाले और सेवन करे।
  • सेवन करना है तो पहले सुहागा को गर्म तवे पर सेक दे ताकि वो टंकण भस्म हो जाए।

( और पढ़े - जाने माहवारी से जुड़ी सभी समस्याओं का आसान समाधान )

सुहागा के फायदे गठिया रोग के लिए - Borax Benefits for Rheumatoid Arthritis in Hindi

  • गठिया सूजन का रोग है और जोड़ो के सूजन को कम करने के लिए बोरेक्स एक उत्तम इलाज है क्योंकि इसमें बोरॉन है जो हड्डियो के लिए ज़रूरी है।
  • बोरेक्स (borox) सुहागा जो सही मात्रा में ले तो शरीर में से दोष का हरण होता है और सूजन कम हो जाती है।
  • पीने के पानी में चुटकी भर बोरेक्स मिला के गठिया के मरीज़ पीए तो सुहागा से सेहत के फायदे मिलेंगे और साथ में लंबे समय पर गठिया से छुटकारा।
  • क्योंकि बोरॉन शरीर में संग्रह नहीं होता है तो गठिया में इसे हर रोज थोड़ी मात्रा पानी में मिलाके लंबे समय तक लेना होता है मगर बहुत कम मात्रा में जैसे की एक लीटर पानी में 1/4th चम्मच बोरेक्स और इस पानी का एक-दो चम्मच हर रोज सेवन करे।
  • जबकि एक बाजू सुहागा के लाभ गठिया के लिए दोहराए जाते है तो अर्थराइटिस रिसर्च UK ऑर्गनिज़ेशन के डॉक्टर का मानना है की ऐसा कोई वैज्ञानिक सबूत नहीं है की बोरेक्स से गठिया में फायदा होता है।

( और पढ़े - गठिया जोड़ों के दर्द का घरेलू उपाय )

टंकण भस्म के फायदे खाँसी के लिए - Tankan Bhasam benefits for cough in hindi

  • टंकण भस्म स्वास्थ्य के लिए फायदेकारक है अगर निम्न मात्रा में ले और खाँसी में गले मे खराश हो तो एक चुटकी मुँह में रख के घुलने दे।
  • सुहागा को तवे पर सेके और फिर गर्म पानी में मिलाए और नमक डाल के गरारे करे तो गले में कीटाणु का नाश होगा और खाँसी में राहत मिलेगी।
  • स्वास्थ्य के लाभ टंकण भस्म के बताए तो गर्म पानी में चुटकी भर डाल के पीए तो शरीर में से विष और बलगम बाहर निकाल देता है जिससे खाँसी का शमन होता है।
  • सुहागा के लाभ खाँसी में लेना है तो तवे पर सेके और यह टंकण भस्म को शहद, चुटकी भर काली मिर्च और यष्टिमधु के साथ मिलाके चाटे तो सूखी खाँसी भी मिट जाती है और दमा में भी फायदा होता है।
  • टंकण भस्म से खाँसी का इलाज करते हो तब बलगम बढ़ाने वाले चीज़ जैसे की केले, चावल और चीनी ना खाए।

( और पढ़े - जाने आयुर्वेद में खांसी का उपचार

टंकण भस्म के फायदे रूसी के लिए - Tankan Bhasam ke fayde for dandruff in Hindi

  • बालो में रूसी के लिए सुहागा से इलाज करे। पानी उबाले और इसमें एक चम्मच टंकण भस्म मिलाए और घुलने दे।
  • ठंडा होने पर बालो की जड़ो मे लगा के रखे।
  • आधे घंटे के बाद धो दे।
  • उबलते पानी में 25 ग्राम टंकण भस्म और 10 ग्राम कपूर मिलाके घुलने दे और ठंडा होने पर बाल धोए तो रूसी हट जाएगी।
  • टंकण भस्म के लाभ रूसी में पाना है तो सुहागा को पानी में मिलाए और फिर इसको नारियल तेल और नीम के तेल में मिला के बालो की जड़ो में रगड़ दे।

( और पढ़े - बालों की रूसी को दूर करने के घरेलू नुस्खे

बोरेक्स पाउडर के फायदे लिंग शिथिलता के लिए - Borax Powder benefits for erectile dyfunction in hindi

  • लिंग शिथिलता और नपुंसकता में बोरेक्स के लाभ अवश्य मिलेंगे अगर एक लीटर पानी में एक चम्मच पिघला के हर रोज आधा कप सेवन करे।
  • टंकण भस्म स्वास्थ्य के लिए उपयोग करने से यह खून में मैग्नीशियम और कैल्शियम को स्थिर कर देता है जिससे लिंग उत्तेजना प्रणाली मजबूत हो जाती है।
  • टंकण भस्म के लाभ नपुंसकता के लिए बताए तो यह हार्मोन का उत्पादन बढ़ा देता है और साथ में विष शरीर से निकाल देता है।
  • लिंग उत्तेजना के लिए अकरकरा, गोखरू, चुटकी भर काली मिर्च और टंकण भस्म को मिलाए शहद के साथ और सेवन करे।
  • बोरेक्स के फायदे लिंग उत्तेजना के लिए चाहिए तो तवे पर सेक दे और यह टंकण भस्म में मिलाए मैन्सिल (mensil) गोली चूरा करके और तिल तेल और लिंग पर मालिश करे।

( और पढ़े - लिंग की नसों में कमजोरी और ढीलापन का घरेलु इलाज )

टंकण भस्म के फायदे त्वचा के लिए - Tankan Bhasam ke fayde for skin in hindi

  • त्वचा के लिए टंकण भस्म के लाभ बताए तो दाग मिटा देता है अगर बादाम तेल और चमेली (jasmine) का तेल के साथ मिलाके लगाए तो।
  • त्वचा पर खुजली, रिनंगवोर्म या ऐसा कोई भी संक्रमण हो तो टंकण खार को सेके तवे पर और अरण्डी तेल मिलाए या घी मिलाए और संक्रमित जगह पर लगाए।
  • स्कैबीज (Scabies) और खुजली हो तो गर्म पानी में सुहागा मिलाके उस जगह पर लगाए तो खुजली मिट जाएगी।
  • नीम, सत्तू के पत्ते और सुहागा को मिला के पीस दे और संक्रमित त्वचा पर लगाने से सभी त्वचा रोग मिट जाते है।
  • खुजली बहुत होती है तो सुहागा को तवे पर सेक के टंकण भस्म तैयार करे और नारियल तेल तथा गंधक में मिलाके त्वचा पर लेप करे।

( और पढ़े - दाग-धब्बे व किसी भी तरह के निशान हटाने का अचूक उपाय )

सुहागा के गुण दमा की बीमारी में -  Borax benefits for asthma in hindi

  • सुहागा के फायदे दमा की बीमारी में विशेष है अगर इसे तवे पर सेक के फिर शहद मिलाके चाटा जाए।
  • 50 ग्राम शहद में 25 ग्राम सुहागा मिलाके अच्छी तरह मिला के बॉटल में भरके रखे और एक चम्मच हर रोज चाटे तो दमा का सुहागा से उपाय ज़रूर अच्छे परिणाम देगा।
  • सुहागा को तवे पर सेके और टंकण भस्म बनाए और फिर इसमें यष्टिमधु चूर्ण, काली मिर्च और शहद मिलाके दमा की बीमारी के मरीज़ को हर रोज एक चम्मच दे।
  • दमा की बीमारी में स्वास लेने में तकलीफ़ हो तो एक लीटर गर्म पानी में एक चम्मच सुहागा डाल के उबाले, ठंडा करे और इस पानी से गरारे करे और एक चम्मच  सेवन भी करे।
  • यह उपाय नियमित करे तो दमा मिटने की संभावना है।

( और पढ़े - दमा का घरेलू ईलाज )

सुहागा का प्रयोग पेट के लिए - Health Benefits of Borax for Stomach in Hindi

  • बदहज़मी में सुहागा के फायदे पाने के लिए खाने के बाद ½ ग्राम सुहागा को सौंफ के साथ मिलाके चबाले।
  • छोटे बच्चे को पेट में गैस होती है तो उसको 100 mg बोरेक्स दे| 
  • खाने के बाद अगर उल्टी जैसा लगे तो 1/4th चम्मच सुहागा आधा लिटर पानी में मिलाए और आधा कप का सेवन करे।
  • पेट में दर्द होता है तो चुटकी भर हींग, चुटकी भर बोरेक्स और ¼ चम्मच अजवाइन मिला के चबाले।
  • पेट में कोई भी परेशानिया हो तो सुहागा या टंकण भस्म का सेवन करने से दोष का अंत होता है और विष बाहर निकल जाता है।

( और पढ़े - जाने पेट की समस्याओं का आसान व असरदार उपाय

सुहागा का इस्तेमाल अच्छी नींद के लिए - Borax Benefits for Sleep in Hindi

  • नींद में रुकावट आए तो सोने से पहले 1 लीटर पानी में 20 ग्राम सुहागा मिलाया हुआ पानी 1-2 चम्मच सेवन करे।
  • लाइम रोग (Lyme disease) में बहुत रुकावट आती है नींद में और ऐसे में सुहागा या टंकण भस्म का सेवन फायदा देता है।
  • गर्मियो के कारण और बेचैनी के कारण नींद ना आती हो तो एक चुटकी टंकण भस्म, शहद और यष्टिमधु को चाट ले सोने से पहले।
  • तनाव के कारण नींद ना आती हो तो टंकण भस्म और अश्वगंधा को गरम दूध में मिलाए, चीनी और घी मिलाए और पीले।
  • हॉस्पिटल में भर्ती हो गये हो बीमारी के इलाज के लिए या ऑपरेशन के लिए और नींद ना आए तो सोने के समय टंकण भस्म का सेवन करे।

( और पढ़े - Insomnia नींद नहीं आने के सबसे असरदार घरेलू उपाय

मूत्रमार्ग के संक्रमण में सुहागा का उपयोग - Borax Benefits for UTI(Urinary Infections) in Hindi

  • टंकण भस्म के फायदे UTI याने मूत्राशय और मूत्रमार्ग के संक्रमण में भी मिलते है। खासकर के महिलाओ के लिए बोरेक्स का फायदा UTI  में यह है की तुरंत इसका असर होता है।
  • बोरेक्स के लाभ UTI हटाने के लिए पाना है तो आधा चम्मच बोरेक्स गर्म पानी में पिघलाए, ठंडा होने दे और पीले। यह पुरुषो के लिए आसान तरीका है।
  • पुरुषो के मूत्रमार्ग संक्रमण में बोरेक्स पानी में पिघला के मूत्रमार्ग में सिरिंज द्वारा दाखिल किया जा सकता है।
  • महिलाओ को संक्रमण हो UTI में तो योनि में भी फैल जाता है इसीलिए बोरेक्स को जेलाटीन कैप्सूल में भर के योनि में रख दे। दो दिन ऐसा करने पर मूत्रमार्ग संक्रमण मिट जाता है।
  • ध्यान में रखे की सुहागा ज़्यादा लेने पर नुकसान करता है और दो दीनो में संक्रमण ठीक ना हुआ तो डॉक्टर की सलाह ले।

( और पढ़े - मूत्रमार्ग (पेशाब) संक्रमण जाने इस के लक्षण और उपचार )

छोटे बच्चे का पेट फूलना और दूध उलटना रोकें सुहागा के उपयोग से - Suhaga ke fayde for babies in hindi

  • Belly meaning in Hindi हैपेट और छोटे बच्चो में पाचन नहीं है सही और हरे रंग का दस्त है तो चुटकी भर टंकण भस्म दूध और शहद में मिला के बच्चे को चाटने को दे।
  • नन्हा मुन्ना बच्चा दूध उलट देता है तो तवे पर सुहागा सेक दे और दूध में मिलाके एक चम्मच बच्चे को पिला दे।
  • पेट में गैस हो जाए छोटे बच्चे को तो टंकण भस्म, शहद और 1-2 बूँद अदरक का रस मिला के बच्चे को दे।
  • पेट और अन्य समस्या नन्हे मुन्ने बच्चो में हो तो एक चुटकी सुहागा चमत्कारिक फायदे देता है।
  • दाँत निकल आते है तब भी पेट की समस्या होती है नन्हे बच्चो में तो ऐसे में शहद और चुटकी सुहागा बच्चो के मसूड़ों पर घिसे।

( और पढ़े - नवजात शिशु की देखभाल- पूरी जानकारी! )

सुहागा के लाभ गले में खराश आवाज़ बैठ जाना सभी के लिए - Borax benefits for Swollen Throat, Mouth, And Tongue Sores in hindi 

  • ज़्यादा बोलना पड़े और आवाज़ बैठ जाए तो ब्रह्मदंडी के मूल के रस में टंकण भस्म मिलाए और दिन में दो बार सेवन करे।
  • ठंडी में सूखे हवा के कारण गला सूख जाए और गला बैठ जाए तो टंकण भस्म,  तुलसी, यष्टिमधु चूरा और शहद को शहद में मिलाके चाटे।
  • किसी के साथ बातचीत ज़्यादा किया है या भाषण दिया है और गला बैठ गया तो ठीक करने के लिए एक चुटकी सुहागा मूह मे रखे।
  • गला बैठ गया है किसी कारण तो तुरंत ठीक करने के लिए आधा ग्राम सुहागा को चूसे।
  • एक लौंग और सुहागा मूह में रखे आवाज़ बैठ गयी है और ठीक करनी है तो।

( और पढ़े - इन घरेलू तरीक़ो से करे गले की खराश दूर )

टंकण भस्म के फायदे प्लीहा में - Borax benefits for Spleen Enlargement in Hindi

  • तिल्ली (Spleen) में सूजन हो और प्लीहा हो जाए तो राई के बीज के साथ टंकण भस्म मिलाए और पिसे और यह चूर्ण आधा चम्मच पानी में मिलाके हफ्ते तक सेवन करे तो सूजन मिट जाएगी।
  • Spleen याने प्लीहा की बीमारी में भूख मर जाती है और कमज़ोरी आती है तो सुहागा, राई और यष्टिमधु में काली मिर्च मिलाके शहद के साथ लेने से ठीक हो जाती है।
  • प्लीहा या तिल्ली या S pleen की बीमारी में एक लीटर पानी में 20 ग्राम सुहागा मिलाके उबाले और ठंडा करके रखे और हर रोज दिन में 3 बार 2 चम्मच सेवन करे।
  • प्लीहा के सूजन को ठीक करने के लिए तवे पर सुहागा सेक दे और फिर नींबू काट के आधा भाग कटे हुए भाग को तवे पर रखके गरम करे, उपर थोड़ा सुहागा छिड़के और चूसे।
  • चुटकी टंकण भस्म, अजवाइन, सेंधा नमक को मिलाके पानी में डालके खाने के बाद सेवन करे तो बढ़े हुई तिल्ली फिर से छोटी होने लगती है।

( और पढ़े - दांत दर्द, दाँत सफ़ेद के रामबाण नुस्खे )

टंकण भस्म के अन्य फायदे - Other Health Benefits of Borax in Hindi

  • आँखों में जलन और आँख लाल हो जाए तो पानी में चुटकी बोरेक्स और चुटकी फिटकरी मिलाके आँख धोए।
  • दाँत को घिसे फिटकरी, सुहागा और हल्दी के मिश्रण से तो बदबू, सड़न और मसूड़ों की तकलीफ़ दूर हो जाएँगी।
  • बालो को धोए पानी से जिसमें मिला या हो सुहागा और कपूर तो बाल रेशमी मुलायम हो जाएँगे।
  • सुहागा को तवे पर सेके और टंकण भस्म बनाए और शहद के साथ मिला के बच्चे को दे तो उनके पेट फूलने का और पेट में दर्द दूर हो जाते है और उल्टी भी मिट जाती है।
  • कान में कीड़े हो जाए तो ½ ग्राम सुहागा को सिरका में मिलाए और कानो मे थोड़े बूँद डाले तो कीड़े मर जाएँगे।

सुहागा के नुकसान - Suhaga (Tankan Bhasma) ke nuksan in hindi

सुहागा के नुकसान - Borox side effects in hindi

  • सुहागा के फायदे है तो सुहागा के नुकसान भी है जिसमें अंतःस्त्रावी प्रणाली (Endocrine System), ज्ञानतंतु, दिमाग़ और कर्मेन्द्रिया को हानि होती है और इनकी कार्यक्षमता कम हो जाती है।
  • टंकण भस्म के लाभ है तो टंकण भस्म के नुसान है, जैसे की गर्भवती महिला इसका सेवन करे तो होने वाले बच्चे में हामिया(hamiya) हो सकता है और ज़्यादा ले तो गर्भपात भी हो सकता है।
  • टंकण भस्म स्वास्थ्य के लिए फायदेकारक है निम्न मात्रा में और ज़्यादा खाए टंकण भस्म के नुकसान है जैसे की उल्टी और मितली होना।
  • सुहागा के नुकसान में शरीर में कमज़ोरी और दुर्बलता आ सकती है।
  • टंकण भस्म दवाई की तरह बहुत कम मात्रा में उपयोग करे और थोड़े समय तक क्योंकि लंबे समय तक सेवन करने से हड्डिया कमजोर हो जाती है।
  • ज़्यादा टंकण भस्म का सेवन ना करे क्योंकि सुहागा के नुकसान में पेट में जलन और दाह हो सकती है।
  • सोने पे सुहागा in english अर्थ होता है कुछ अति-उत्तम जैसेकी icing on the cake अँग्रेज़ी में कहते है और ऐसे ही निम्न मात्रा में यह स्वास्थ्य के लिए फायदकारक है और ज़्यादा ले तो गुर्दे और यकृत को नुकसान करती है।
  • सोने पे सुहागा meaning समझना है तो जानिए की सोना पिघलाते समय उसमें से गर्द निकलने के लिए सुहागा डाला जाता है पिघले सोने में तो सब गन्दगी को जमा करके बाहर निकाल देता है और सोना चमकने लगता है। ऐसे ही थोड़ी मात्रा में ले तो फायदा और ज़्यादा लिया तो शरीर को भी नुकसान होता है।
  • सुहागा का नुकसान है की ज़्यादा खाए तो पेट में जलन होती है तो ऐसे में दूध या पानी पी ले।
  • त्वचा पर सुहागा लंबे समय तक रहने दिया तो जलन हो सकती है यह है सुहागा के नुकसान।
  • सुहागा के नुकसान में श्वासनली और श्वसन तंत्र में जलन होती है, नाक में से खून गिरता है, मुँह सूख जाता है,  गले में खराश होती है, दम घुटने लगता है और सूखी खाँसी आती है।
  • आँखो में संक्रमण में सुहागा उपयोग किया जाता है मगर ज़्यादा लगाया तो आँखों में और जलन होगी जो बोरेक्स के नुकसान में एक है।
यह है सुहागा के फायदे और सुहागा के नुकसान के बारे में जानकारी। हमेशा निम्न मात्रा में उपयोग करे और सेवन करना है तो अंश मात्रा में ही करे बहुत सावधानी से|
Tags: #Suhaga ke fayde aur nuksan in hindi #borax benefits and side effects in hindi #tankan bhasam ke fayde aur nuksan in hind #Health benefits of Borax in hindi
Loading...

Leave a Comment

Your Name

Comment

0 Comments

Loading...