ज़्यादा काजू खाने से बच के रहे क्योंकि हो सकता है नुकसान स्वस्थ्य को

ज़्यादा काजू खाने से बच के रहे क्योंकि हो सकता है नुकसान स्वस्थ्य को

ज्यादा काजू खाने के नुकसान (side effects of eating too many cashew nuts in hindi): Cashew nut  याने की काजू इतना स्वादिष्ट और पौष्टिक है की यह अपने रोज आहार मे ज़रूर होना चाहिए| मगर हर एक चीज़ की सीमा होती है| ऐसे ही काजू मे भी सीमा है और सावधानी है| अगर ग़लत तरीके से खाया या ज़्यादा खा लिए तो काजू के नुकसान भुगतने पड़ते है| जानिए काजू के नुकसान (side effects of cashew nuts in hindi) मे और सावधानी से खाए| 

जानिए काजू के बारे में – What is cashew nuts in hindi?

काजू एक प्राकृतिक अजायबी है| जब की हर कोई नट फल के अंदर होता है तो काजू एक ऐसा नट है जो की काजू के फल के नीचे के भाग मे लटकता है| काजू के उपर एक छिलका होता है जिस मे ज़हरीले रसायन होते है| इसीलिए काजू को फल से अलग किया जाता है और फिर काजू को रसायन मे भिगो के या नमक के पानी मे डाल के या तो ऐसे ही ज़रा सा भुन के उस के छिलके को अलग किया जाता है| काजू का छिलका कितना ज़हरीला है यह जान ने के लिए देखिए की जो मज़दूर कच्चे काजू के काम मे लगे रहते है उन के त्वचा पर फोड़े पड़ जाते है| काजू के छिलके मे और कच्चे काजू मे भी होता है ज़हरीले रसायन है (usushiol, cardol aur anacardic acid)| इन से त्वचा जल जाती है और वर्कर्स के हाथ को नुकसान पहुचता है| काजू मे रहे urushiol अगर ज़्यादा प्रमाण मे शरीर मे दाखिल हो जाए तो गहरे प्रतिक्रिया हो सकते है इसीलिए सावधानी से उपयोग करे| 

काजू के नुकसान से बचने के लिए सावधानी – Precautions to avoid dangers of cashew nuts

काजू मे रहे ज़हरीले पदार्थ से त्वचा पर खुजली और जलन होती है, शरीर मे स्पन्दन और कंपन होती है, दिमाग़ और रीड़ की हड्डी प्रणाली पर प्रभाव होता है| स्वास लेने मे तकलीफ़ होती है और बालो पर भी असर होता है| कई बार मृत्यु भी होती है| यह सब बुरे असर तब होते है जब काजू का सही तरीके से उपयोग नहीं करते है| 

  • छिलके वाला काजू अगर खरीदे तो यह ध्यान रखे की छिलका सम्पूर्ण तरीके से निकाल ले| जो भी ज़हरीले तत्व काजू के है वो उसके छिलके मे होते है| इसीलिए छिलके को निकाले और बाद मे खाए| 
  • काजू को हमेशा हल्का सा भुन कर ही खाए| कच्चे काजू मे भी ऐसे रसायन है जिस से शरीर मे गहरी प्रतिक्रिया आ सकती है| 
  • लंबे समय तक पड़े रहे काजू का उपयोग ना करे| इसमे कीड़े हो सकते है| 

काजू पोष्टिक है, दिल के लिए फायदेमंद है, तंत्र प्रणाली को काजू से लाभ होता है, खून के लिए लाभकारी है और बालो के लिए गुणकारी| तो काजू के नुकसान क्या है? पढ़िए काजू से होनेवाले नुकसान| 

काजू के नुकसान – How cashew nuts can cause damage

  • काजू पोष्टिक ज़रूर है मगर हमेशा सिमित मात्रा मे खाना चाहिए| ज़्यादा काजू खा लिए तो काजू का बुरा असर यह है की वजन बढ़ने लगता है| 
  • काजू मे कई ऐसे रसायन है जिस से सवेदनशील लोगो मे एलर्जी हो जाती है| इसीलिए पहली बार काजू खाते हो तो बहुत कम (4-5) खा के देखे| 
  • काजू के नुकसान और काजू के साइड इफ़ेक्ट (Kaju ke nuksan aur kaju ke side effects in hindi) से स्वास लेने मे अत्यंत तकलीफ़ (anaphylaxis) हो जाती है और तुरंत एमर्जेन्सी ट्रीटमेंट लेना होता है वरना मौत हो सकती है| 
  • अगर कोई मरीज़ चिकित्सा ले रहा है और एंटीबायोटिक्स लेता है तो काजू मे मैगनीशियम  का प्रमाण ज़्यादा होने से यह दवाई के साथ मिल कर के तकलीफ़ बड़ा देता है| 
  • डायबेटिक्स अगर गोली लेते है और थाइरोइड के पेशेंट्स दवाई लेते है तो उन्हे काजू नहीं खाना चाहिए क्योंकि काजू साइड एफेक्ट्स (kaju side effects) मे magnesium दवाई के साथ मिलकर प्रतिक्रिया करता है| 
  • काजू मे है कई एमिनो ऐसिड्स (tyramine aur phenyethyamine ) है जो कई लोगो मे एलर्जिक रिएक्शन पैदा करता है| अधाशिशी हो सकता है| 
  • अधाशिशी की बात करे तो जिन को यह तकलीफ़ है वो काजू ना खाए तो ही अच्छा क्योंकि काजू के साइड एफेक्ट्स (kaju ke side effects) गंभीर हो जाते है| 
  • कई लोग नमकीन काजू पसंद करते है| नमकीन काजू High BP का कारण होता है| 
  • अगर सही तरीके से काजू तैयार ना हुए हो और ऐसे काजू को हाथ लगाए या खाए तो dermatitis हो सकता है| इस मे फोड़े (pruritic rash) हो जाते है, खुजली होती है और मुँह मे भी छाले पड़ सकते है| 
  • काजू खाने से लहू के शर्करे यानि ग्लूकोस की मात्रा के प्रमाण मे बदलाव हो जाता है| अगर किसी को ऑपरेशन करवाना है तो ऑपरेशन के दो हफ्ते पहले से काजू खाना बंद कर दे| 
  • काजू अगर ज़्यादा खा लिए तो यह संभव है की काजू मे रहे रसायन के कारण गुर्दे की पथरी और पित्ते की पथरी (gallbladder stone) की समस्या खड़ी हो जाएगी| 

काजू बनाने की क्रिया – How do cashews grow and process

काजू से नुकसान अगर होता है तो उस के पीछे है कारण की काजू को कैसे तैयार किया है| काजू मे ज़हरीला पदार्थ को निकालने के लिए खास क्रिया की जाती है| पहले तो छिलका निकाल दिया जाता है गर्म पानी मे भिगोने के बाद, काजू को भून दिया जाता है तो बाहर का छिलका अलग हो जाता है और काजू मे रहे ज़हरीले पदार्थ का परिवर्तन होता है दूसरे तत्त्व मे जो कम ज़हरीला है| फिर काजू को भूसे मे मिला के centrifuge मशीन मे घुमाया जाता है तो उस मे रहे ज़हरीले रसायन बाहर निकल जाते है| सभी उत्पादक यह प्रक्रिया नहीं भी करते हो तो संभव है की काजू मे ज़हरीले पदार्थ रह जाए और खाने पर नुकसान करे| कभी भी नया पॅकेट खरीदे तो 2-4 काजू खाए और 3-4 घंटे तक देखे की क्या प्रतिक्रिया होती है|...और पढ़े >>

TAGS: #Cashew nut side effects in hindi #cashew side effects #cashew nuts benefits and side effects in hindi #side effects of cashew nuts #side effects of eating too many cashew nuts in hindi #side effects cashew nuts #cashew milk side effects #side effects of cashew nuts on men in hindi #side effects of eating cashew nuts in hindi #side effects of eating cashews #side effects of eating too many cashews in hindi

Loading...

Leave a Comment

Your Name

Comment

0 Comments