जानिए किन कारणों से और क्यो मोटापा एक महामारी का रूप ले रहा है

जानिए किन कारणों से और क्यो मोटापा एक महामारी का रूप ले रहा है

Motapa Ek Mahamari : Yeh to hum jaante hai ki America aur aise viksit desho mein motapa ek epidemic yaane mahamaari ban gaya hai. Arthik vikas ke saath praja ke pet ka bhi vikas juda ho aisa lagta hai. Hamare Bharat mein bhi kuch aisa hi ho raha hai. Aise logo ki sankhya badhne lagi hai jinhe arthik roop se sukhi maana jaa sakta hai aur jyada pratishat log shehro mein yeh. Yeh ashcharya ki baat nahin hai ki un ke liye aur un ke mote bachcho ke liye seedha saadha Maruti 800 bhi chota padne laga hai. Motapa apne rishtedaaro jaise ki madhumeh, uchch raktachaap aur dil ki bimariyo ko bhi saath mein laata hai. Un ke door ke rishtedar jo kam khatarnaak nahin hai jaise ki jodo ka dard bhi peeche peeche chale aata hai. Motape par tax nahin hai. Bus mein aap ke baaju mein mota koi baitha ho to us ko vahi kiraya dena padta hai jo aap single body ke dete hai magar voh jyaada jagah rokta hai. Kya yeh anyaay nahin hai?  Jo bhi ho motapa ek jatil samajik aur angat samasya hai. Is ke peeche sirf arthik vikas hi hai ya aur koi kaaran bhi hai?

 Jaane Motapa Mahamaari ke Lagataar Badhne Ke Mul kaaran

  • Lambe samay tak Indian logo mein yeh maana jaata tha ki jo mota hai voh boss hai, sheth hai aur rais hai. Pet bhar ke khaaye aur pet badhaye to milega pet bhar ke ijjat. Bachche mote honge to log kahenge kitne hrusht pusht hai aur maa baap ki taarif karenge. Kai logo ka maanna hai ki yeh sabhi doctors, dawai ki company aur food companies ka conspiracy hai. Ek baaju food companies logo ko protsahit karenge jyaada khaake mote banne ko aur doosri baaju doctors ka practice jor shor se chalega.
  • Voh shayad majaak tha. Magar yeh majaak nahin hai ki Indian log american aor phoren ke foods aur lifestyle ka aankh bandh kar ke follow karte hai. Agar American companies burger, pasta, french fries aur pizza yahan par bechne par tule hai to Indians mein kam intezari nahi hai un cheezo ko khaane ke liye. Yeh high calorie foods hai jo khaas kar ke young generation ki pehli pasand hai, yahan tak ki voh ab paramparik aahar se door hote jaa rahe hai.
  • Cheese ka chalan badh gaya hai aur dairy padarth ka bhi. Log yeh nahin jaante hai ki pashu palan karne vale log pashu ko oxytocin aur anya hormones ka injection dete hai doodh ka straav badhane ke liye. Yeh hormones bachcho aur adult ke sharir mein dakhil ho ke bura asar karta hai jaise ki bachcho mein puberty samay se jaldi aana aur charbi ka sharir mein badhava hona.
  • Lifestyle hi kuch aisa hai ki shram karna kisi ko pasand nahin hai aur jaroorat bhi nahin hai. Bachche ko khelne ka samay nahin hai. School se ghar se lke tuititions aur homework mein itne jute rehte hai ki khelne ka samay nahin hai. Hai to koi khelne vaala nahin hai kyonki kitne bachche TV ya video games mein jute hai. Adults office mein kaam karte hai aur deri se ghar pahunch kar deri se khaana khaa ke thoda relax ho ke so jaate hai. Is ka asar hai metabolism rate kam ho jaana aur fat ka deposition hona.
  • Khaane mein bhi ek samay par paramparik tarike mein raat ka bhojan halka hota tha magar aaj kal raat ka bhojan heavy, fatty aur spicy hota hai. Is ke baad ab western logo ki tarah dessert yaane meetha khaana fashionable ho gaya hai. It na hi nahi. Kai logo mein ab yeh bhi style ho gaya hai ki raat ko friends ke saath mil ke sharaab ki party rakhi jaaye. Sharaab peene par aur jyaada khaaya jaata hai. Ab log fat nahin honge to kya honge?
  • Lekin unhe dosh nahin de sakte hai jinke ghar mein vansh paramparagat tarike se sabhi mote hai. Yeh unki khush nasibi samjho.

Mahilao Main Motapa Badhne Ke Karan (स्त्रियों मे मोटापा बढ़ने के ख़ास कारण) :

स्त्रियों में मोटापे की समस्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही हैं। महानगरीय जीवन में मोटापा धीरे-धीरे एक महामारी बन रहा है। मधुमेह, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग जैसी कई बीमारियों का कारण मोटापा ही है।आज मोटापे से बच्चे से लेकर बूढ़े और महिलाएं कोई भी अछूता नहीं हैं। मोटापे का सबसे पहला कारण है असंतुलित भोजन और शारीरिक निष्क्रियता। बच्चों में मोटापा आधुनिक जीवनशैली की वजह से बढ़ रहा है। मोटापे पर यदि जल्द ही नियंत्रण नहीं किया गया तो आधी से ज्यादा आबादी इसकी चपेट में आ जाएगी। आइए जानें किन कारणों से महामारी बन रहा है मोटापा।

गाँवो में देखे तो पुरुष और स्त्री दोनो का शरीर सिंगल और मजबूत होता है क्योंकि 5 बजे उठ कर जटिल शारीरिक श्रम शुरू हो जाता है जब की भोजन वही सादा रहा है|. शहरो में उल्टा है, भोजन अधिक रिच है जैसे लोगो के पैसे की ताक़त और श्रम उस के प्रतिलोम अनुपात में है. और इन लोगो को इस बात का एहसास शायद नहीं है की उन को डाइयबिटीस अकाल ही होगा. मगर वो शायद इसे भी फॅशनबल बना देंगे की अगर किसी को ब्प, डाइयबिटीस और हार्ट ट्रबल नहीं है तो वो ग़रीब मज़दूर है और हाइ सोसाइटी का मेंबर कहलाने के लायक नहीं है. 

Wazan Badhne Ke Pramukh Karan :

  • फैशन और आधुनिक जीवनशैली के चलते लोग घर के खाने से ज्यादा जंकफूड खाना पसंद करते हैं जो कि मोटापे का सबसे पहला कारण हैं।
  • बड़ों के साथ-साथ बच्चों  में भी शारीरिक सक्रियता कम हो रही हैं यानी बच्चे आउटडोर गेम्स से दूर होते जा रहे हैं। ठीक ऐसा ही युवाओं के साथ भी लागू होता हैं वे कंप्यूटर, मोबाइल, आईपौड जैसे गैजेट्स के चक्कर में कोई खास शारीरिक परिश्रम नहीं करते जिससे उन्हें मोटापे की शिकायत होने लगी हैं।
  • भोजन करने का सही समय ना होना, भोजन में वसा, मिठाई, तेल, घी, दूध, अंडे, शराब, मांस, धूम्रपान, अन्य तरह का नशे के कारण भी वज़न बढ़ता है।
  • शरीर की कुछ ग्रंथियाँ भी मोटापे का कारण होती हैं। अवटुका ग्रंथि और पीयूष ग्रंथि के स्रावों की कमी की वजह से मोटापा पनपता है।
  • वंश परंपरा भी मोटापे का कारण हो सकती है यदि माता या पिता में से कोई भी मोटा है तो बच्चे का मोटा  होना स्वाभाविक है|
 
Is this article helpful?
Loading...

Leave a Comment

Your Name

Comment

0 Comments