अरंडी के तेल के फायदे और नुकसान - Castor Oil Benefits and Side Effects in Hindi

अरंडी

अरंडी के तेल के फायदे और नुकसान (Castor Oil Benefits and Side Effects in Hindi, Arandi ke Tel (castor oil) ke Fayde aur Nuksan in Hindi): अरण्डी या अरंडी तेल अरण्डी के बीज में से निकाला जाता है और इस के अनगिनत उपयोग और फायदे है। अरण्डी तेल औषध में उपयोग होता है, घर में उपयोग होता है त्वचा और बालो के लिए और पेट साफ करने के लिए। घर में जब साल भर का अनाज भरते है तो अरण्डी तेल लगा के रखते है ताकि कीड़े ना पड़े। अरण्डी का तेल का उपयोग किया जाता है इपॉक्सी (epoxy) और पॉलियामाइड राल (polyamide resin) बनाने में। कैस्टर आयिल को चिकनाई (Lubricant) की तरह भी उपयोग किया जाता है।  पढ़ते रहे आगे और जानिए what is castor oil called in hindi, कैस्टर ऑयल के उपयोग, कैस्टर ऑयल के गुण और पोष्टिक तत्व और अरंडी तेल के नुकसान।

( सम्बंधित जानकारी - अरंडी तेल के त्वचा के लिए फायदे )

अरंडी के तेल के फायदे - Castor Oil Benefits in Hindi

  • कैस्टर ऑयल शरीर के अनचाहे तिल व मस्सों से छुटकारा दिलाता है।
  • कैस्टर ऑयल का उपयोग चेहरे पर निखार लाता है।
  • अरंडी का तेल कील मुहासों से छुटकारा दिलाता है।
  • कैस्टर ऑयल का प्रयोग त्वचा को जवान व गोरा बनाता है। 
  • कैस्टर ऑयल का उपयोग मुहासों के दाग धब्बों को दूर करता है।
  • अरंडी तेल के गुण होठों को फटने और कालेपन से छुटकारा दिलाते है।
  • अरण्डी का तेल की मालिश स्ट्रेच मार्क्स को दूर करती है।
  • अरंडी का तेल का नियमित उपयोग ऑय ब्रो की ग्रोथ करता है।
  • कैस्टर ऑयल की मालिश आँखों के काले घेरों का उपचार करे।

1. कैस्टर आयिल को हिंदी पंजाबी मराठी में क्या कहते है ? - What is Castor Oil Called in Hindi, Punjabi, Marathi ? 
2. अरंडी के तेल का मतलब - Meaning of Castor Oil in Hindi
3. कैस्टर आयिल क्या है? - What is Castor Oil in Hindi?
4. अरंडी के तेल के फायदे - Arandi Ke Tel Ke Fayde in Hindi 

5. अरंडी तेल के नुकसान - Arandi Tel Ke Nuksan in Hindi
6. बच्चों के लिए अरंडी के तेल के फायदे - Castor Oil Benefits for Baby And for Pregnant Women in Hindi
7. प्रेग्नेंट वोमेन के लिए अरण्डी तेल के फायदे - Castor Oil Health Benefit for Pregnant Women in Hindi

कैस्टर आयिल को हिंदी पंजाबी मराठी में क्या कहते है ? - What is castor oil called in Hindi, Punjabi, Marathi ? 

What is castor oil called in Hindi? कैस्टर यानी अरण्डी (aerandi) या अरंडी (arandi)। अरण्डी का तेल पंजाबी में (Castor oil in punjabi) ਆਰੰਡੀ ਦਾ ਤੇਲ, अरंडी का तेल मराठी (Castor oil in marathi) में एरंड का तेल कहलाता है यह पौधा करीब 8 फुट ऊँचा हो जाता है और इसमें जो बीज पकते है उनमें से तेल निकाला जाता है जिसे कैस्टर आयिल हिंदी में (castor oil in hindi name) अरण्डी तेल कहा जाता है। यह तेल गाढ़ा होता है अन्य तेल की तुलना में और आम तौर पर बाहरी उपयोग में ज़्यादा लिया जाता है क्योंकि इस में है ज़हरी तत्व राइसिनोलिक एसिड (Ricinoleic Acid)। अरंडी तेल को एरंडेल तेल (erendel), एरण्ड तेल, कैस्टर आयिल, कैस्टर तेल, अरण्डी का तेल और ऐसे अन्य नामो से पहचाना जाता है।

( सम्बंधित जानकारी - अरंडी के तेल से बालों को बनाए सुंदर )

अरंडी के तेल का मतलब - Meaning of castor oil in hindi

लोगो को पूछो की अरंडी तेल का मतलब क्या है तो अलग जवाब मिलेगा। बच्चो और माता को पूछो Hindi meaning of castor oil होता है जुलाब। वैध जी को पूछो तो उसके लिए meaning of castor oil in Hindi में है औषध अरंडी तेल के रूप में। व्यवसाय और उद्योग से जुड़े लोगो के लिए यह उत्तम रॉ मेटीरियल (Raw material) है और चिकनाई (Lubricant) है।

कैस्टर आयिल क्या है? - What is castor oil in hindi?

कैस्टर आयिल दूसरे तेल की तरह खाने में उपयोग में नहीं लिया जाता है। एरंडेल का उपयोग औषध की तरह होता है, अनाज को कीटाणुऔ से बचाने के लिए, सौंदर्य प्रसाधन की तरह, औद्योगिक उपयोग में रॉ मेटीरियल (Raw material) की तरह और चिकनाई (Lubricant) की तरह। ऐसे देखे तो अन्य तेलो की तुलना में कैस्टर आयिल यानी एरंडेल तेल या अरंडी तेल बहुत उपयोगी है कई अलग अलग क्षेत्रो में।

अरंडी के तेल के फायदे - Arandi ke Tel ke Fayde in Hindi 

अरंडी के तेल के फायदे गर्भावस्था में - Use of castor oil in pregnancy in hindi

  • एरंडेल का उपयोग गर्भावस्था में क़ब्ज़ से छुटकारा पाने के लिए हो सकता है। क़ब्ज़ हो तो बहुत परेशानी होती है, खास कर के गर्भावस्था के 7 महीने बाद। अगर क़ब्ज़ हो तो एक चम्मच खाली पेट ले तो पेट साफ हो जाएगा।
  • गर्भावस्था में पेट फूलने के कारण त्वचा खिच जाती है और इस के निशान रह जाते है। ऐसे में अरंडी तेल हल्का गरम करके मालिश करे। गर्भावस्था के बाद, बच्चे के जन्म होने के बाद भी यह निशान रह जाते है तो ऐसे में कैस्टर आयिल के फायदे बेजोड़ है त्वचा को संकुचित रखने के लिए।
  • गर्भावस्था में हाथ पैर में दर्द हो तो कैस्टर आयल बेनिफिट्स उठाए दर्द निवारण के लिए। उसे हल्का गर्म करे हल्दी के साथ और मालिश करे।
  • क़ब्ज़ के लिए कैस्टर आयिल इस्तेमाल करे तो संभाल के करे क्योंकि इस में राइसिनोलिक एसिड (Ricinoleic Acid) होता है जो ज़हरीला है।
  • गर्भावस्था में सूजन हो तो अरण्डी के तेल का उपयोग सूजन कम करने के लिए करे, बस हल्का गर्म करके मालिश करे सूजन पर और जोड़ो पर।

( और पढ़े - प्रेगनेंसी के दौरान किन बातों का का ध्यान रखना चाहिए )

कास्टर आयल फॉर हेयर इन हिंदी - Castor oil for hair in hindi

  • अरण्डी के तेल का उपयोग बालो के लिए उत्तम है क्योंकि इस में है राइसिनोलिक एसिड (Ricinoleic Acid), जिस से खून का बहाव बढ़ता है।
  • कैस्टर आयिल के फायदे बालो को बखूबी मिलता है क्योंकि इस मे रहे ओमेगा 6 और 9, विटामिन A और खनिज पदार्थ जो देते है बालो को पोषण।
  • अरंडी के तेल के फायदे बालो के लिए यह है की रूसी और अन्य संक्रमण से छुटकारा मिलता है। बालो की जड़ो में खुजली हो और बाल झड़ते है तो अरंडी तेल बालो के लिए उत्तम उपाय है।
  • अरंडी के तेल के गुण यह है की यह एंटीवायरल (antiviral) और ऐन्टीबेक्टिरीअल (antibacterial) है और राइसिनोलिक एसिड (Ricinoleic Acid) से बाल झड़ना बंद हो जाते है और नए बाल भी उगते है।
  • अरंडी का तेल बालो के लिए बहुत फायदेमंद है, अरंडी के तेल के गुण यह भी है कि यह बालो को नमियुक्त कर के मुलायम बना देता है।
  • अरंडी तेल को कस्टर्ड आयल (custard oil) भी कहते है मगर यह कैस्टर आयिल का एक नाम है। दरअसल कस्टर्ड एप्पल आयिल (custard apple oil) यानी सीताफल के बीज के तेल के साथ अरंडी का तेल मिला के बालो में लगाए तो जूँ से छुटकारा मिलता है।

( और पढ़े - Hair Care Tips In Hindi (बालों को लम्बा और घना बनाए - घरेलू उपचार )  )

अरंडी तेल पीने के फायदे - Drinking castor oil benefits in Hindi

  • कस्टर्ड आयल यानी की अरंडी के तेल पीने से लाभ यह है की क़ब्ज़ दूर हो जाता है और पेट साफ हो जाता है।
  • अरंडी के तेल हर दूसरे दिन पीए, हफ्ते में तीन बार तो जोड़ो और मांसपेशियों मे दर्द से छुटकारा मिलता है और सूजन कम हो जाती है जो गठिया के रोग में बहुत फायदकारक है।
  • अरंडी के तेल के लाभ में अगर नींद नहीं आती हो तो आधा चम्मच पिए तो अच्छी तरह से नींद आ जाती है।
  • हफ्ते में सिर्फ़ 4 दिन ही कैस्टर आयल (castor oil)  का उपयोग करे और इस से रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ जाती है और साथ में कैंसर से रक्षण मिलता है। 
  • गर्भवती महिला गर्भ गिरा देना चाहे तो 2 चम्मच अरंडी के तेल का सेवन करे तो जल्दी ही गर्भपात हो जाता है। बच्चे को जन्म देते समय भी कैस्टर आयिल का डोज़ दे तो आसानी से गर्भदान हो जाता है।

( और पढ़े - गर्भपात करने के घरेलु उपाय )

एरंडेल तेल का उपयोग स्वास्थ्य के लिए - Health benefits of castor oil for health in hindi

  • एरेंडल तेल अंदरूनी उपयोग कर सकते है और बाहर से भी और दोनो प्रकार के उपयोग से स्वास्थ्य के लिए फायदा है।
  • लसिका ग्रंथि को साफ रखने और कार्यक्षमता बढ़ाने के लिए अरंडी का तेल से मालिश करे। ऐसा करने से विष बाहर निकल जाएगा और खून का बहाव शरीर में बढ़ जाता है और साथ में त्वचा से किटाणुओं का नाश होता है।
  • अरंडी तेल त्वचा रोग जैसे की खुजली और दाद (ringworm) में असरकारक साबित हुआ है। कील मुहासो के लिए भी कैस्टर आयिल और नीम आयिल लगाए तो फायदा होगा।
  • अरंडी आयल यानी कैस्टर आयल नाख़ून पर लगाए तो नाख़ून चमकीले होंगे और विकास होगा और ऐसे ही बालो को बढ़ाना है और फटे होंठो को ठीक करना है तो अरंडी का तेल पतंजलि (patanjali castor oil) हर तरह से फायदा देता है।
  • अरण्डी का तेल पतंजलि ब्रांड का उपयोग करे यहाँ इसमे से ज़हरीला तत्व निकाल दिया जाता है और इसका अगर सेवन करे तो क़ब्ज़ से छुटकारा मिलता है। पेट साफ रहेगा तो सेहत बढ़ेगी। 

​( और पढ़े - 5 दिनों में नाख़ून बढ़ाने के तरीके )

शरीर के बढ़ते वजन को घटाने के लिए कैस्टर ऑयल के फायदे - Castor oil benefits for weight control in Hindi

  • कैस्टर ऑयल के फायदे वजन नियंत्रण में रखने के लिए बेजोड़ है। पेट साफ करता है, लसिका ग्रंथियो की कार्यक्षमता बढ़ाकर लहू और आँत में से वसा बाहर निकल देता है और इस तरह वजन नियंत्रण में रहता है।
  • अरंडी तेल के गुण में इसमे रहे राइसिनोलिक एसिड (Ricinoleic Acid) पाचन सुधार देता है और आँत में PH लेवल सुधार देता है।
  • एरेंडल आयिल एक चम्मच खाली पेट सवेरे ले तो पेट साफ होगा और पेट और आँत की कार्यक्षमता बढ़ जाएगी जिससे मेटाबोलिज्म (metabolism) भी तेज होगा और वसा का सही उपयोग होगा शरीर में।
  • अरण्डी ऑयल बेनिफिट पाना है तो हफ्ते में सिर्फ़ 4 दिनों तक ले ताकि शरीर इसका आदि ना हो जाए।
  • अरण्डी का तेल का उपयोग वजन कम करने के लिए करे तो यह हमेशा सफलता नहीं देगा अगर और भी उपाय जैसे की खान पान पर नियंत्रण और व्यायाम ना करे। कई बार सिर्फ़ पेट साफ करके पानी को शरीर में कम करके ऐसा प्रतीत होता है कि वजन कम हुआ मगर सही में वसा की कोशिकाएं कम नहीं होंगी।

( और पढ़े - वजन घटाने के तरीके )

रूसी हटाए एरंड का तेल - Arandi oil ke fayde for dandruff in hindi

  • एरंडेल का रूसी हटाने के लिए उत्तम है क्योंकि इसमे ऐन्टीबेक्टिरीअल (antibacterial) और एंटीवायरल (antiviral) तत्व और राइसिनोलिक एसिड (Ricinoleic Acid) जो रूसी को ख़तम करने में सहायक है।
  • रूसी ख़तम करने के लिए कैस्टर आयिल (अरंडी तेल) को नीम के तेल के साथ मिलाए, हल्का गर्म करे और जड़ो में मालिश करके पूरी रात रहने दे। 
  • अरण्डी ऑयल रूसी के लिए उपयोग करे तो आप इसको नींबू के रस के साथ कर सकते है। एक बॉटल में 50 ग्राम कैस्टर आयिल ले और एक नींबू का रस और खूब अच्छी तरह से हिलाए तो पायसन (emulsion) जैसा क्रीम होगा तैयार जो बालो के जड़ो में लगाए। हेयर आयिल की तरह इस्तेमाल करे तो रूसी नहीं होगी।
  • कैस्टर आयिल के फायदे में खून का बढ़ाव भी बढ़ जाता है और रोग प्रतिरोधक शक्ति भी जिससे रूसी में अच्छी तरह से यह काम कर जाता है।
  • राइसिनोलिक एसिड, ओमेगा 6 और ओमेगा 9 की मदद से बालो का झड़ना बंद होता है और नए बाल भी निकल आते है।
  • राइसिनोलिक एसिड PH भी संतुलित कर देता है जिस से रूसी पर कंट्रोल आ जाता है।

( और पढ़े - रुसी हटाने के घरेलू नुस्खे )

एरंडेल तेल का उपयोग रंग गोरा करने के लिए - Castor oil benefits for skin whitening in hindi

  • कैस्टर ऑयल के बारे में बताए तो यह बिल्कुल प्राकृतिक है और सौंदर्य प्रसाधन के रूप में भी उपयोग हो सकता है। हल्दी और अरंडी तेल का मिश्रण रोज रात को लगाए त्वचा में तो महीने में रंग उजला कर देगा और त्वचा भी कोमल, नमियुक्त हो जाएगी।
  • नारियल तेल और नींबू के रस के साथ मिलाए और थोड़ा सा शहद डाल के अच्छी तरह चेहरे को मालिश करे। आधे घंटे के बाद धो दे तो त्वचा गोरी होने लगेगी। इसलिए अरण्डी ऑयल बेनिफिट त्वचा के लिए हमेशा उत्तम रहा है ।
  • अरण्डी ऑयल एक चम्मच ले, इस में बेकिंग सोडा और थोड़ा सा हाइड्रोजन पेरॉक्साइड (hydrogen peroxide) मिलाए और इससे चेहरे को पाँच मिनिट तक घिसते रहे। ऐसा करने से सावली त्वचा भी गोरी होने लगेगी। 
  • अरंडी तेल के गुण है की खून का बहाव बढ़ा देता है त्वचा में और नमियुक्त कर देता है जिससे रंग सुधर जाता है और चेहरा दमकने लगता है।
  • अरंडी तेल, एक अंडा और हल्दी का मिश्रण बनाए और चेहरे पर हर रोज लेप करे और आधे घंटे तक रहने दे। इससे चेहरा गोरा होने लगेगा।
  • धूप में जाए तो पहले अरंडी तेल चेहरे पर लगाए ताकि धूप से त्वचा काली ना हो जाए|

( और पढ़े - जानिए गोरा होने के असरदार उपाय )

कास्टर आयल फॉर स्किन इन हिंदी - Castrol oil for skin in hindi

  • अरंडी तेल को लोग कैस्टर आयिल, कस्टर्ड आयिल और कैस्ट्रॉल आयिल भी कहते है जब की कैस्ट्रॉल कंपनी का नाम है जो इंजन आयिल बनाती है तो यह कैस्ट्रॉल आयिल फॉर स्किन के फायदे यह है कि इसको नियमित रूप से लगाने से त्वचा का फटना बंद हो जाता है। 
  • सर्दियो में खास कर के अरंडी तेल का फायदा उठाए। त्वचा पर नारियल तेल के साथ मिश्रण कर के लगाए तो त्वचा नमियुक्त रहेगी। यूज़ ऑफ कैस्टर ऑयल फॉर लिप्स (castor oil for lips) बताए तो होंठो के फटने का समस्या नहीं रहेगी। 
  • नींबू के रस के साथ कैस्टर आयिल और नीम आयिल का मिश्रण कर के लगाए चेहरे पर तो कील मुहासे मिट जाएँगे और उसके दाग भी मिट जाएँगे। 
  • पैरो के तलवो मे छाले पड़ जाए और फट जाए तो अरंडी तेल को एलोवेरा के साथ मिलाए और लगाए।
  • चेहरे को दमकाना है तो हल्दी और अंडे के पीले भाग के साथ अरंडी तेल का मिश्रण उपयोग करे। 
  • त्वचा पर खुजली, एक्जिमा (eczema) और ऐसे त्वचा संबंधित रोग है तो अरंडी तेल, एलोवेरा और हल्दी का मिश्रण लगाए।

( और पढ़े - चेहरे के दाग धब्बे हटाने के घरेलु नुस्खे )

अरण्डी का तेल का उपयोग पेट के लिए - Use of castor oil for stomach in hindi

  • एक चम्मच कैस्टर आयिल के फायदे पेट के लिए कई है। पेट में दर्द हो, गैस हो और कीटाणु हो तो अरंडी तेल से यह सभी तकलीफो से छुटकारा दिलाता है|
  • क़ब्ज़ हो तो सब से अच्छा प्राकृतिक इलाज है अरंडी तेल। Castor oil uses  पारंपरिक तरीके से बच्चो को दिया जाता है क़ब्ज़ होने पर। एक चम्मच लेने से पेट बिल्कुल साफ हो जाता है।
  • पेट साफ करने के साथ कैस्टर आयिल के फायदे यह है की आँतो को मजबूत बना देता है और रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ा देता है क्योंकि इसके सेवन से T-cells का निर्माण बढ़ जाता है। 
  • अरंडी के तेल के गुण यह भी है की पेट के कैंसर से रक्षण मिलता है क्योंकि यह लसिका को सक्रिय कर देता है।
  • पेट के लिए कैस्टर आयिल का उपयोग  एक चम्मच जितना ही करे और वो भी हफ्ते में सिर्फ़ 4 दिनों तक। हमेशा इस का सेवन उचित नहीं है। महीने में एक बार ही ऐसा करे।

( और पढ़े - सभी पेट की समस्या के उपाय )

अरंडी तेल के लाभ चेहरे के लिए - Arandi ke tel ke fayde for face in hindi

  • अरंडी के तेल चेहरे पर मालिश करे तो त्वचा में रक्त संचार बढ़ जाता है और चेहरा हरा भरा लगने लगेगा।
  • एरंडेल तेल (Erandel oil) को नारियल तेल और अंडे में मिला के लगाए तो चेहरे की त्वचा हृष्ट पुष्ट हो जाएगी और झुर्रिया जल्दी से नहीं पड़ेगी लंबे समय तक।
  • चेहरे पर कील मुहासे हो तो कच्चा पपीता, हल्दी और अरंडी तेल के मिश्रण से लेप करे तो यह मिट भी जाएँगे और साथ में दाग भी निकल जाएँगे।
  • चेहरे पर घाव हो या संक्रमण हो तो कैस्ट्रॉल आयिल उम्दा इलाज है इन सभी को जल्दी से मिटाने के लिए। 
  • सर्दियों में त्वचा का रूखापन दूर करने के लिए कैस्टर आयिल रात को चेहरे पर घिसे और होंठो पर भी। त्वचा और होंठ फटेंगे नहीं। 
  • धूप में जाना है तो चेहरे पर कैस्टर आयिल लगाने से त्वचा काली नहीं पड़ेगी।

( और पढ़े - त्वचा और बालो के लिए बेसन के फायदे  )

अरंडी के तेल के गुण है रूखी त्वचा के लिए - Castor oil benefits for dry skin in hindi

  • जिनकी त्वचा रूखी रहती है उनके लिए अरंडी तेल के फायदे अनेक है।
  • सिर्फ़ अरंडी तेल को त्वचा पर घिसने से त्वचा नमियुक्त हो जाती है।
  • और भी अच्छे परिणाम चाहते है और अगर त्वचा फटी हो तो अरंडी तेल के साथ एलोवेरा जेल मिला के उपयोग करे।
  • अरंडी तेल और नारियल तेल का मिश्रण त्वचा में नमी भर देता है और छिद्र भी भर जाते है।
  • रूखी त्वचा वाले अगर धूप में जाए तो त्वचा जल जाती है तो धूप से जली हुए त्वचा पर अरंडी तेल लगाए तो राहत मिलेगी।

( और पढ़े - जानिए चेहरे पर झुर्रिया होने का कारण कहीं रूखी त्वचा तो नहीं )

अरंडी तेल के लाभ त्वचा में  सूजन को कम करे - Castor oil ke fayde for inflamed skin in hindi

  • त्वचा में सूजन आ जाए ज़्यादा धूप में घूमने से या अन्य कारण से तो अरंडी तेल के साथ टी ट्री आयिल और ओलिव आयिल मिला के हल्के से मालिश करे।
  • कील मुहासो के कारण सूजन हो तो अरंडी तेल लगाए त्वचा पर।
  • शरीर के अन्य भाग में सूजन हो तो अरंडी तेल और हल्दी के मिश्रण से मालिश करे।
  • त्वचा में सूजन के लिए कैस्टर आयिल इस्तेमाल करे थोड़ा सा गर्म कर के और अच्छी तरह मालिश करने के बाद ठंडा पानी का पोता लगाए। 
  • सूजी हुई त्वचा में ठंडक लाने के लिए कैस्टर आयिल, दही और चंदन का लेप बना के लगाए।

( और पढ़े - जानिए कैसे मंजिष्ठा है लाभदायक सूजन कम करने के लिए )

अरण्डी का तेल बढ़ती उमर में त्वचा को झुर्रियो से बचाए - Arandi oil benefits for anti aging in hindi

  • बढ़ती उमर में या तो अयोग्य जीवन शैली के कारण या अयोग्य आहार के कारण एजिंग के निशान चेहरे पर होते है जैसे की आँखो के नीचे काले दाग और त्वचा में झुर्रिया होना। हर रोज रात को सोने से पहले थोड़ा सा कैस्टर आयिल त्वचा में घिस दे तो झुर्रिया लंबी उमर तक नहीं पड़ेगी।
  • अरंडी तेल और अंडे का सफेद भाग में मुलतानी मिट्टी मिला के फेसपैक चेहरे पर लगाने से झुर्रिया कम हो जाती है और त्वचा लचीली, नमियुक्त हो जाती है।
  • नारियल तेल और अरंडी तेल का मिश्रण का उपयोग करे झुर्रियो के इलाज में तो अरंडी तेल के फायदे अवश्य दिखाई देंगे।  
  • चेहरे पर अरंडी तेल लगाए और फिर एक तौलिया को गरम पानी में भिगो के निचोड़ के चेहरे पर बांध के रखे 5 मिनिट तक। बाद में एक बर्फ का टुकड़ा घिस दे।
  • त्वचा पर लगाए और एक चम्मच अरंडी तेल का सेवन भी करे कैस्टर आयिल के ऐंटीऐजिंग (anti-ageing) का फायदा लेने के लिए।

( और पढ़े - जानिए कैसे पाए झुर्रियों से छुटकारा सिर्फ एक दिन में )

कील मुहासो के लिए अरंडी का तेल - Castor oil Benefits for Acne in Hindi

  • अरंडी तेल में होता है राइसिनोलिक एसिड (Ricinoleic Acid) जो तेज़ ऐन्टीबेक्टिरीअल (antibacterial) है और साथ में और भी तत्व है जो कील मुहासो को मिटाने में सहायक है।
  • नारियल तेल, अरंडी तेल और नीम का तेल मिला के कील मुहासो पर लगा के घिसे तो यह एरंडेल का उपयोग से कील मुहासे ख़त्म हो जाएँगे।
  • मुहासो का इलाज अरंडी तेल से करना है तो सिर्फ़ तेल लगाए या तो पपीता और हल्दी के साथ यूज़ करे तो इस उपाय से कील मुहासो का अंत होगा।
  • अरंडी तेल में कुचले हुए लहसुन मिलाए और हल्का गर्म करे और यह तेल कील मुहासे की दवाई के रूप में उपयोग करे। कैस्टर आयिल में एप्पल साइडर विनिगर (apple cider vinegar) भी मिलाया जा सकता है।
  • कील मुहासो में रक्त और पेट साफ रखना ज़रूरी है इसीलिए कैस्टर आयिल से कील मुहासे के इलाज के नुस्खे में एक चम्मच रोज़ अरंडी तेल का सेवन करे|

( और पढ़े - त्वचा के मुहासे हटाने के घरेलु नुस्खे )

एरंड के तेल का उपयोग दाग धब्बे हटाने के लिए - Erandel Oil Benefits for Face Blemishes in Hindi

  • कैस्टर आयिल के फायदे त्वचा के लिए अनेक है। यह कीटाणु नाशक है इसीलिए अगर चेहरे पर कोई भी कमी है तो कैस्टर आयिल अच्छी तरह से मल दे। 
  • नारियल तेल, अरंडी तेल और हल्दी का मिश्रण कर के थोड़ा सा शहद और नींबू का रस मिलाए। इस मिश्रण को लगाने से दाग धब्बे और सावला रंग सभी मिट जाएँगे।
  • जटिल दाग हो या धब्बे हो तो कैस्टर आयिल में बेकिंग सोडा और 2-3 बूँद हाइड्रोजन पेरॉक्साइड (hydrogen peroxide) मिला के घिसे 5 मिनट तक। 
  • झुर्रिया, दाग, धब्बे मिटाने के लिए कैस्टर आयिल, पपीता का गुदा और हल्दी का मिश्रण से लेप करके अच्छी तरह घिसे चेहरे को। 
  • दाग धब्बे हटाने के लिए अरंडी तेल के फायदे लेने है तो हल्का सा गर्म करके उपयोग करे और इस में लहसुन मिलाए तो और फायदा होगा।

( और पढ़े - दाग धब्बे से पाए छुटकारा लेज़र तकनीक से )

एरंड का तेल के फायदे रिंगवॉर्म के लिए - Castor Oil Uses to Treat Ringworm in Hindi

  • त्वचा पर रिंगवॉर्म हो जाए तो लाल गोल फोड़े जैसा हो जाता है और इस को मिटाने के लिए कैस्टर आयिल यूज़ करे। 
  • अरंडी तेल फायदे रिंगवॉर्म में करना है तो हल्का सा गर्म करे और लहसुन का पेस्ट मिला के लगाए और रात भर रहने दे।
  • रिंगवॉर्म मिटाने के लिए कैस्टर आयिल यूज़ करे हल्दी और नीम के पत्ते के पेस्ट के साथ। रिंगवॉर्म के इलाज में अरंडी तेल थोड़ा सा गर्म करे और फिर उपयोग करे तो कैस्टर आयिल के लाभ होंगे। 
  • एक चम्मच कैस्टर आयिल भी पीए तो सही काम करेगा।

( और पढ़े - जानिए कैसे पाए रिंगवॉर्म से छुटकारा नीम के द्वारा )

एरंडेल तेल का उपयोग त्वचा पर खींचाव के निशान मिटाने के लिए - Castor Oil Benefits for Stretch Marks in Hindi

  • कैस्टर आयिल के फायदे है त्वचा पर खींचाव के निशान को मिटाने के लिए। 
  • गर्भावस्था में पेट बढ़ जाता है और त्वचा में खींचाव आता है जिससे निशान रहते है तो रात को थोड़ा हल्का गर्म कैस्टर आयिल से मालिश करे। 
  • गर्भदान के बाद भी त्वचा ऐसे ही खींची रहती है तो वापस नॉर्मल करने के लिए अरंडी तेल, नारियल तेल और मुलतानी मिट्टी का पेस्ट बना के लगाए।
  • वजन कम किया है तो त्वचा ऐसे ही ढीली रह जाती है और खींचाव के निशान रह जाते है तो त्वचा पर के यह निशान मिटाने के लिए अरंडी तेल, अंडे का सफेद भाग और मुलतानी मिट्टी का लेप कर के रहने दे।
  • निशान गहरे रंग के हो तो बेकिंग सोडा और कैस्टर आयिल का मिश्रण लगाए और घिसे 5 मिनिट तक।

( और पढ़े - प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क हटाने के लिए उपाय )

कैस्टर ऑयल के फायदे रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाए - Arandi Ke Tel Ke Fayde for Immune System in Hindi

  • अरंडी तेल का उपयोग करे तो लसिका ग्रंथि सक्रिय होकर शरीर में से विष निकल देती है और रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ जाती है।
  • अरंडी तेल के सेवन से शरीर में T cells, जो संक्रमण से युद्ध करते है, उन की मात्रा बढ़ जाती है और रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ जाती है। 
  • अरंडी तेल के फायदे यह है की पेट साफ करता है, विष बाहर निकल देता है, वसा को नियंत्रित रखता है और परिणाम है की इम्यूनिटी बढ़ जाती है।
  • अरंडी तेल में कीटाणुनाशक गुण है और वाइरस का भी नाश करती है तो इसके सेवन से इम्यूनिटी तेज हो जाती है।
  • अरंडी तेल लिम्फोसाइट (lymphocytes) का प्रमाण बढ़ा देती है।

( और पढ़े - जड़ी बूटियों से बढ़ाये रोग प्रतिरोधक शक्ति )

एरंडेल तेल का उपयोग अकाल सफेद हुए बालो के लिए - Castor Oil Benefits for Premature Grey Hair in Hindi

  • अरंडी तेल का फायदा यह है की नारियल तेल के साथ मिला के बालो में लगाए तो राइसिनोलिक एसिड (Ricinoleic Acid), ओमेगा 6 और 9 और अन्य पोशक तत्व मिलते है जिससे बाल अकाल सफेद है तो फिर धीरे से काले होने लगते है।
  • अरंडी आयिल बेनिफिट्स इन हिंदी सफेद बालो के लिए चाहिए तो बिल्कुल खट्टा दही में मिश्रण कर के बालो में लगाए और आधे घंटे तक रहने दे और फिर धो दे।
  • अरंडी तेल, प्याज का रस, गुड़हल के फूल का रस और मेहन्दी मिला के बालो में लगाए तो अकाल बाल सफेद हुए है तो इस से रक्षण मिलता है।
  • कैस्टर आयिल बेनेफिट है की बालो के अंदर तक घुस जाता है और बालो के जड़ो में नवचेतना पैदा करता है जिस से नए बाल उगने लगते है और वो भी काले और घने। 
  • अरंडी तेल बालो में नमी भर देता है जिससे बाल घने और काले नज़र आते है।

( और पढ़े - वक़्त से पहले हुए सफ़ेद बालो का इलाज )

अरण्डी के तेल का उपयोग घाव के लिए - Castor Oil Ke Fayde for Wound Healing in Hindi

  • अरंडी तेल में ऐसे तत्व है जो कीटाणुनाशक है और एंटीवायरल (antiviral) भी है। घाव पर लगाए तो यह सभी कीटाणुऔ का नाश कर देता है।
  • अरंडी तेल एक चम्मच खाने से और घाव पर लगाने से खून का संचार बढ़ जाता है जिस से घाव जल्दी से भर जाता है।
  • अरंडी तेल एक चम्मच खाए तो T cells का निर्माण तेज हो जाता है और यह T cells सभी कीटाणुओं का नाश कर के घाव के भरने में सहायक होते है। 
  • लसिका की कार्यक्षमता बढ़ जाती है अरंडी तेल के उपयोग से और अरंडी तेल का फायदा है की घाव जल्दी से मिट जाते है और नया संक्रमण नहीं होता है।
  • अरंडी तेल के गुण बढ़ाने के लिए हल्दी और नीम के पत्ते को पीस के मिलाए और घाव पर लगाए।

( और पढ़े -  गुग्गुल है घावों और अल्सर समस्याओं का उपाय

एरंडेल का उपयोग गठिया के लिए - Health Benefits of Castor Oil for Arthritis in Hindi

  • अरंडी का तेल गठिया में फायदकारक है क्योंकि अरंडी तेल सूजन कम कर देता है।
  • अरंडी तेल लसिका को तेज बना देता है और यह विष को निकल देता है। सूजन भी कम हो जाती है और दर्द भी।
  • अरंडी तेल, सरसों तेल और हल्दी मिला के मालिश करे गठिया में जोड़ो पर तो दर्द में राहत मिलती है और शांति का अनुभव होता है। रात को अवश्य लगाए।
  • अरंडी तेल एक चम्मच सेवन भी करे तो अरंडी के फायदे में आँत साफ होगी, खून का बहाव तेज होगा और सूजन कम होगी। 
  • सरसों तेल और अरंडी तेल के मिश्रण को गर्म करके जोड़ो पर मालिश करे और फिर ठंडा और गर्म सेक करे।

( और पढ़े - जानिए गठिया के दर्द को कम करने के उपाय )

अरंडी तेल के नुकसान - Arandi Tel ke Nuksan in Hindi

अरंडी तेल के नुकसान - Castor Oil Side Effects in Hindi

  • अरंडी के तेल के गुण है तो अरंडी के तेल के नुकसान भी है। ज़्यादा ले और अगर यह बिल्कुल शुद्ध नहीं है और अंदर रिसिन (ricin) है तो पेट में दर्द, ऐलर्जी, दस्त आदि मुश्किले खड़ी हो जाती है। 
  • कैस्टर आयिल के नुकसान बालो के लिए यह है की अधिक तेली बाल हो और कैस्टर आयिल लगाए तो चिपचिपाहट बढ़ जाती है और बेढंगा सा लगता है। 
  • कैस्टर आयिल बालो में लगाए तो कपड़े पर भी दाग लग जाते है। ऐलर्जी हो तो सर पर खुजली और फोड़े भी प्रकट हो सकते है। 
  • कैस्टर आयिल खाए तो यह गर्म प्रकृति के होने के कारण दस्त कर देता है। 
  • जिन्हे कैस्टर आयिल पचता नहीं है तो कैस्टर आयिल के नुकसान में उनको पेट में पीड़ा, मतली, उल्टी और चक्कर आ सकते है। 
  • ज़्यादा खाए तो अरंडी तेल के नुसान में इस का असर दिमाग़ और पाचन पर हो सकता है और वो भी अगर इस तेल में रिसिन (ricin) किसी भी प्रमाण में रह गया हो तो इसलिए पतंजलि कैस्टर आयिल का उपयोग करे जो खाने के लायक है। 
  • गर्भवती महिला अरंडी तेल का सेवन करे तो अरंडी तेल के दुष्प्रभाव में उस को गर्भपात हो सकता है।
  • अशुद्ध अरंडी तेल के नुकसान में त्वचा पर लगाने से फोड़े और खुजली हो सकते है।
  • जिन को कैस्टर आयिल माफिक नहीं आता है तो मासपेशियो में कमज़ोरी आ सकती है रिसिन (ricin) के कारण। 
  • सही तरह से अरंडी के बीज में से तेल नहीं निकाला और फिल्टर किया तो रिसिन (ricin) रह जाता है और यह अगर पेट में चला गया तो घातक हो सकता है।
  • अरंडी तेल के नुकसान में ज़्यादा सेवन करे तो गुर्दे पर बुरा असर होता है इसीलिए एक चम्मच ज़्यादा से ज़्यादा 4 दिन लगातार खाए।
  • अरंडी तेल का दुष्प्रभाव यकृत पर भी होता है जिसकी कार्यक्षमता कम हो जाती है या तो काम करना बंद हो जाता है और मौत होती है। बच्चो को बड़ी सावधानी से अरंडी तेल खिलाए क्योंकि इस से पेट में दर्द और अन्य तकलीफे हो सकती है और ऐलर्जी हो तो गंभीर हालत हो जाती है।
  • कैस्टर आयिल साइड इफ़ेक्ट में पेट में दर्द होता है। 
  • आँत में सूजन और जलन यह भी अरंडी तेल का नुकसान है।

यह है कैस्टर आयिल के लाभ और कैस्टर आयिल के दुष्प्रभाव। सोच समझ के इस्तेमाल करे।

बच्चों के लिए अरंडी के तेल के फायदे - Castor Oil Benefits for Baby and for pregnant women in Hindi

कैस्टर याने अरंडी व्यापक रूप में उगाया जाता है क्योंकि इस के उपयोग अनगिनत है। अरंडी तेल याने कैस्टर आयिल खाने में नहीं लिया जाता है मगर इसके घरेलू और औद्योगिक उपयोग कई है। इसके स्वास्थयवर्धक गुण भी है और यह बच्चो से लेके बुजुर्गों तक। आज जानिए कैस्टर आयिल बेनिफिट्स बच्चो के लिए और बच्चो के लिए कैस्टर आयिल उपयोग कैसे करे। अरंडी का तेल प्राइस (Castor oil price) सस्ता है और हर एक घर में होना चाहिए क्योंकि अरंडी तेल के कई अलग उपयोग है।

बच्चो के बालो के लिए अरंडी के तेल के फायदे - Use of Castor Oil for Baby Hair growth in hindi

  • यह जानिए castor oil in Hindi name क्या है। हिन्दी में कैस्टर आयिल को अरंडी तेल कहते है।
  • Castor oil in Hindi  है अरंडी तेल जिसका उपयोग बच्चो के बालो के लिए श्रेष्ट है क्योंकि इस तेल में प्रकृति राइसिनोलिक एसिड (ricinoleic acid), विटामिन A और ओमेगा फैटी  एसिड होते है जो बालो के विकास के लिए ज़रूरी है।
  • अरंडी के तेल के फायदे (Castor oil benefits) बच्चो के लिए बताए तो यह प्राकृतिक कीटाणु नाशक और रक्षक है तो बच्चे के सर पर के बालो में कोई भी संक्रमण होने की शक़यायता कम रहती है।
  • बच्चो के बालो में अच्छी तरह से मालिश करे तो यह नमियुक्त, घना और मुलायम बनाए रखता है।
  • एरंडेल का उपयोग बच्चो के बालो में किया जाए तो बाल जल्दी से उगते है और घने होते है।

( और पढ़े - जानिए बच्चो के बाल झड़ने के कारण )

नन्हे बच्चो को खाँसी में आराम दिलाये अरंडी तेल - Castor Oil for Baby Cough in Hindi

  • Meaning of castor oil in hindi, में बताए तो यह उत्तम औषध है जो हर घर में होना चाहिए, खासकर के जब छोटे बच्चे घर में हो क्योंकि यह उत्तम एंटीवायरल, ऐंटिफंगल और एंटीवायरल है। 
  • Hindi meaning of castor oil, है अरंडी तेल या एरेन्देल जो बच्चो को खाँसी हो जाए तो उपयोग करे इस में कपूर और मेंथोल मिला के छाती और गले पर मालिश करने के लिए।
  • अरंडी के तेल के गुण है की यह कीटाणु को नाश भी करता है और मासपेशियो में नमी भी भर देता है तो छोटे बच्चे को खाँसी होने पर 1/4th चम्मच तुलसी के रस और शहद के साथ मिला के बच्चो को चटाये।
  • खाँसी संक्रमण के कारण हो जाए तो जानिए की बच्चो को कैस्टर आयिल देने से और नियमित रूप से मालिश करने से कैस्टर आयिल के फायदे यह है की बच्चे का रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ जाती है।
  • Castor oil in hindi meaning, है अरंडी तेल जो अगर बच्चो को दे खाँसी में तो खाँसी का शमन करता है, पेट साफ करता है और बच्चो की सेहत बढ़ाता है।

( और पढ़े - छोटे बच्चों में खांसी से छुटकारा पाने के रामबाण घरेलु नुस्खे

छोटे बच्चो के त्वचा की देखभाल अरंडी तेल के उपयोग से - Castor Oil Uses for Baby Skin in Hindi

  • छोटे बच्चो की त्वचा बहुत कोमल और सवेदनशील होती है इसीलिए रसायनिक कॉस्मेटिक ना लगाए बल्कि अरंडी तेल का उपयोग करे चाहे सर्दी हो या ठंडी। अरंडी तेल से नुकसान नहीं होता है। 
  • बच्चो को मालिश करने में किया जाता है और मालिश के बाद धूप में रखे बच्चे को तो उसकी त्वचा काली नहीं होगी और साथ में UV किरणों के कारण उसके शरीर में विटामिन D बन के हड्डियो का सही विकास होगा।
  • What is castor oil called in Hindi सवाल का जवाब है एरंडेल या एरंड तेल या अरंडी तेल जिसे कई लोग कैस्टर आयिल कहते है और कई लोग ग़लती से कस्टर्ड आयिल भी कहते है। नाम कोई भी हो कैस्टर आयिल के फायदे यह है की बच्चो को मालिश करे तो उन्हे ओमेगा 6 और ओमेगा 9 और साथ में विटामिन A मिलता है।
  • छोटे बच्चो को मच्छर काटे तो सुरक्षा के लिए क्रीम ना लगाए बल्कि नीम तेल की थोड़ी बूँद अरंडी तेल में मिला के लगाए तो मच्छर दूर रहेंगे और त्वचा को नुकसान नहीं होगा।
  • छोटे बच्चो के त्वचा के लिए अरंडी के तेल के फायदे बताए तो सर्दियो में त्वचा और होंठो को फटने से बचाता है।

( और पढ़े - जाने त्वचा की देखभाल के असरदार व आसान टिप्स )

एरंडेल तेल के उपयोग से बच्चो को मालिश करे - Castor Oil for Baby Massage in Hindi

  • क्योंकि छोटा बच्चा ज़्यादातर लेटे रहता है तो उसकी माँसपेशियों के विकास के लिए और मजबूती के लिए और खून के संचार के लिए मालिश ज़रूरी है। तेल का उपयोग करे और इसमें भी कैस्टर आयिल के फायदे मालिश करने में कई है।
  • कैस्टर आयिल के फायदे छोटे बच्चो को मालिश करने में एक यह है की लहू का संचार शरीर में बढ़ता है।
  • छोटे बच्चे को अरंडी तेल से मालिश करे तो अरंडी के तेल के लाभ यह है की उसकी लसिका ग्रंथि सक्रिय हो के उसके शरीर में से विष बाहर निकल जाता है और रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ाती है।
  • अरंडी तेल से बच्चो को मालिश करे तो त्वचा नमियुक्त हो जाती है, शरीर को विटामिन A, ओमेगा 6 और 9 मिलते है और त्वचा पर कोई संक्रमण नहीं होता है।
  • एरंडेल तेल बच्चो के मालिश में उपयोग करे तो उसकी सेहत बढ़ेगी, खुशहाल रहेगा, सभी ग्रंथि तेज काम करेंगे और विकास सही होगा। कैस्टर आयिल से मालिश करने के बाद थोड़ी देर धूप में अवश्य रखे बच्चे को।

बच्चो की मासपेशियो मे दर्द के लिए अरंडी तेल के लाभ - Castor Oil for Muscle Pain in Babies in Hindi

  • अब यह जाने कि अगर बच्चो की मासपेशियो मे दर्द हो तो अरण्डी आयल कैसे उपयोग करे। वो रोता रहेगा मगर बोल नहीं पाएगा। ऐसे में उसको राहत देने के लिए एरंडेल आयिल को हल्का गर्म करके हल्के हाथो से मालिश करे। राहत मिलेगी।
  • कैस्टर आयिल में होता है राइसिनोलिक एसिड (ricinoleic acid) और अन्य फैटी एसिड और साथ में ओमेगा 6 और 9 फैटी एसिड जिसका उपयोग बच्चो के मासपेशियो के मालिश मे करे तो दर्द भी कम होगा और विकास भी तेज़ी से होगा। 
  • बच्चो को मासपेशियो में दर्द हो या अकड़न हो या सूजन हो तो patanjali castor oil लेके हल्दी मिलाए और थोड़ा गर्म तेल से मालिश करे। दर्द दूर हो जाएगा और बच्चा खुश रहेगा।
  • हर रोज बच्चे को स्नान करवाए उससे पहले custard oil से उसको मालिश करे तो वो रिलैक्स हो जाएगा और मासपेशियो को व्यायाम भी मिलने के कारण मजबूत हो जाएँगे।
  • छोटे बच्चो के त्वचा पर अरंडी का तेल पतंजलि ब्रांड का ही इस्तेमाल करे क्योंकि यह शुद्ध होता है और इसमें से रिसिन, जो ज़हरीला पदार्थ है, उसे निकाल दिया जाता है।

अरंडी आयिल के फायदे से डाइपर रैश होने से बचाए और मिटाए - Castor Oil for Diaper Rash in Hindi

  • छोटे बच्चे लेटे रहते है और रात में डाइपर गीला कर दे तो उनकी कोमल त्वचा पर फोड़े हो जाने की संभावना रहती है। अगर ऐसा हो जाए तो अरंडी आयिल त्वचा पर लगाए तो यह सभी फोड़े मिट जाएँगे।
  • कैस्टर आयिल के फायदे मिलते है बच्चो को डाइपर रैश में इस तेल में रहे उंडिक्लेनिक एसिड (undecylenic acid) के कारण जो कीटाणु का नाश करता है और त्वचा में खुजली और जलन मिटा देता है।
  • अब जाने कैस्टर आयिल कैसे उपयोग करे डाइपर रैश ठीक करने के लिए। पहले फोड़े वाली जगह को अच्छी तरह से गीले कपड़े से धो दे, तौलिया से पोछे और फिर उंगलियो पर कैस्टर आयिल लगा के धीरे से घुमा दे।
  • आप चाहे तो एरंडेल तेल में थोड़ा सा चंदन पाउडर मिलाए जिससे ठंडक और राहत मिलेगी बच्चो को उन के डाइपर रैश वाली जगह पर।
  • एरंडेल तेल में नारियल तेल मिला के डाइपर रैश में उपयोग करे तो और बेहतर होगा।

( और पढ़े - जानिए नवजात शिशु की देखभाल करने के दादी माँ के नुस्खे )

नन्हे बच्चो के पेट के दर्द के लिए अरंडी तेल मालिश - Castor Oil Massage for Colic Pain in Hindi

  • छोटे बच्चे रोते है तो एक वजह है की पेट में दर्द है। ऐसे में कोई एंटीबायोटिक या एलोपैथिक दवाई देना उचित नहीं है। अरण्डी का तेल का उपयोग करे पेट के दर्द के लिए।  हल्का गर्म करे और एक चुटकी कपूर मिलाए ताकि कपूर घुल जाए और फिर इस तेल को उंगलियो पर लगा के बच्चे के पेट पर गोल घूमाते हुए मालिश करे।
  • पेट में गैस भरने से भी छोटे बच्चे को दर्द होता है तो ऐसे में अरंडी के तेल के फायदे (arandi oil benefits) पाना है तो इसी तेल में थोड़ा सी हींग मिला के पेट और आँत पर नीचे से उपर की तरफ मालिश करे ताकि गैस निकल जाए।
  • क़ब्ज़ के कारण भी छोटे बच्चे को पेट में दर्द हो सकता है तो ऐसे में इस तेल में एक चुटकी अजवाइन पाउडर मिला के नाभि के नीचे के भाग पर नीचे की तरफ  गोल गोल मालिश करे।
  • पेट में दर्द हो तो अरंडी तेल मालिश करते समय हथेलियो से भी हल्का हल्का दबाव दे।
  • छोटे बच्चो के हथेली और पैर के तलवे में भी हल्की मालिश करे अरंडी आयिल से।

अरंडी तेल के उपयोग नन्हे बच्चो का पेट साफ करने के लिए - Arandi ke Upyog for Babies Bowel Movement in Hindi

  • छोटे बच्चे में यह देखा गया है की क़ब्ज़ रहता है तो उसको पीड़ा होती है।  ऐसे में शुद्ध patanjali castor oil ले और 2-4 बूँद उसको पिला दे ऐसे ही या तो दूध में मिला के। पेट साफ हो जाएगा।
  • खास ध्यान रखे की ब्रांडेड पतंजलि अरंडी का तेल या ऐसा अरंडी तेल ले जिसमें से रिसिन को निकाला गया है क्योंकि रिसिन हानिकारक तत्व है जो कैस्टर में पाया जाता है।
  • बच्चे को मल त्यागने में आसानी रहे इस के लिए कैस्टर आयिल यूज़ कैसे करे यह जानिए। अपने उंगली पर कैस्टर आयिल लगाए और उसके मल द्वार के अंदर कैस्टर आयिल लगा ले तो मल त्याग करने में आसानी रहेगी। 
  • छोटे बच्चे की आँतो पर अरंडी आयिल से मालिश करे ताकि पेट में हलन चलन हो और मल आगे बढ़ के बाहर निकल जाए।
  • क़ब्ज़ हो तो कभी कभी अरंडी तेल के फायदे उठाए मगर हर रोज ना पिलाये क्योंकि ऐसा करने से अरंडी तेल के नुकसान बच्चे को होता है।

छोटे बच्चो में क़ब्ज़ के लिए अरंडी तेल के लाभ - Castor Oil Benefits for Toddler Constipation in Hindi

  • अरंडी के तेल का प्राइज सस्ता है और घर पर रख सकते है छोटे बच्चो के क़ब्ज़ में देने के लिए।
  • सस्ता अरंडी तेल में रिसिन हो सकता है जो कैस्टर बीज में होता है और सही फिल्टर ना किया हो तो यह ज़हरीला रिसिन तेल में भी आ जाता है और बच्चे को पिलाए तो बहुत ज़हरीला कैस्टर ऑइल नुकसान कर सकता है| हमेशा शुद्ध और विश्वसनिया ब्रांड का कैस्टर आयिल उपयोग करे जैसे की अरंडी का तेल पतंजलि ब्रांड का। 
  • एलोपैथिक दवाई से बेहतर है की 2-3 बूँद शुद्ध अरंडी तेल बच्चो को दे क़ब्ज़ के लिए।
  • आधुनिक वैज्ञानिक का मानना है की कैस्टर आयिल के फायदे से ज़्यादा कैस्टर आयिल के नुकसान है जब क़ब्ज़ के लिए छोटे बच्चो को दिया जाता है। इससे बच्चो का यकृत बिगड़ सकता है और पीलिया हो सकता है। 
  • कैस्टर आयिल का उपयोग बच्चो के क़ब्ज़ के लिए करे तो और भी अरंडी तेल के नुकसान है जैसे की आँत मे रुकावट हो जाती है जो जीवन भर रहती है।

( और पढ़े - बच्चों में कब्ज की परेशानी को दवाइयों से नहीं ऐसे दूर करे )

सर्दी-जुखाम में बच्चो के लिए अरंडी तेल का फायदा - Castor Oil for Babies Cold in Hindi

  • हवा में हज़ारो प्रकार के वाइरस है और छोटे बच्चे को वाइरल इन्फेक्शन हो के सर्दी-ज़ुखाम का शिकार होना मामूली बात है। ऐसे में एलोपैथिक दवाई तो काम नहीं करते है मगर कैस्टर आयिल में नीलगिरी के तेल (eaucalyptus oil), मेन्थॉल(menthol) और कपूर मिलाए, हल्का गर्म करे और बच्चे के गले, नाक, मस्तिष्क और छाती पर मालिश करे तो सर्दी जुखाम में खूब राहत मिलेगी।
  • अरण्डी के तेल का उपयोग छोटे बच्चो के सर्दी में फायदकारक है क्योंकि अरंडी तेल एंटीवायरल, ऐन्टीबेक्टिरीअल और एंटीफंगल है। साथ में सूजन भी कम करता है।
  • Health benefits of castor oil massage: छोटे बेबी के लिए या कहे बच्चों को मालिश के फायदे कई है जैसे कि स्नायु का मजबूत होना और त्वचा में लचीलापन होना मगर सर्दी जुखाम हो जाए तो अरंडी के तेल से लसिका ग्रंथियो के स्थान पर मालिश करे तो रोग प्रतिरोधक शक्ति भी बढ़ जाती है। 
  • हो सके वहाँ तक कैस्टर आयिल के फायदे ले सिर्फ़ बहारानु उपयोग से। सर्दी जुखाम में दवाई के रूप में भी ना खिलाए अरंडी तेल बच्चो को। 
  • बिल्कुल शुद्ध कैस्टर आयिल इस्तेमाल (use) करे अगर कैस्टर आयिल के फायदे चाहिए क्योंकि कच्चे अरंडी तेल में रिसिन, एक ज़हरीला पदार्थ जो कैस्टर बीज में होता है, वो पाया जाता है। पतंजलि कैस्टर आयिल रिफाइंड है तो बिना झिझक उपयोग करे।

 ( और पढ़े - जानिए सर्दी-जुखाम से जल्दी राहत पाने के उपाय )

नन्हे मुन्ने बच्चो में क्रेडल कैप के लिए अरंडी तेल के उपाय - Health Benefits of Castor Oil for Baby Cradle Cap in Hindi

  • बड़ो के लिए और बच्चो के लिए अरण्डी के तेल के स्वास्थ्य के लिए फायदे कई है और इनमें से एक है क्रेडल कैप। क्योंकि बच्चा ज़्यादातर लेते रहता है तो उसके खोपड़ी पर छाले पड़ जाते है जिसको अँग्रेज़ी में क्रेडल कैप कहते है। एरंडी तेल और नारियल तेल का मिश्रण इस हालत में फ़ायदा देगा।
  • क्रेडल कैप में खोपड़ी पर सफेद रंग के मृत त्वचा का परत हो जाता है। कैस्टर आयिल यूज़ करे हल्का गर्म कर के और मालिश कर दे खोपड़ी पर और फिर टोपी पहना के रखे आधे घंटे तक। 
  • आधे घंटे बाद माथा धो दे।
  • खोपड़ी पर एक्जिमा हो सकता है जिसका इलाज है कैस्टर आयिल जिसमें है तेज ऐन्टीबेक्टिरीअल और एंटीफंगल गुण और साथ में ओमेगा 6 और 9 फैटी एसिड है जो त्वचा के किसी भी रोग में रामबाण इलाज है। 
  • नन्हे मुन्ने बच्चो की खोपड़ी हमेशा चेक करते रहना चाहिए की कहीं बालो में सफेद पाउडर जैसा तो नहीं दिख रहा है। अगर ऐसा दिखाई दे तो समझ ले की क्रेडल कैप है और अरंडी तेल, चुटकी भर कपूर और 2-3 बूँद नीम के तेल का मिश्रण बना के सर पर मालिश करे।

प्रेग्नेंट वोमेन के लिए अरण्डी तेल के फायदे - Castor Oil Health Benefit for Pregnant Women in Hindi

  • गर्भावस्था एक नाज़ुक परिस्थिति है महिलाओ के लिए और उन्हे अपनी सेहत का ख़याल रखना ज़रूरी है। रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के लिए अरंडी के तेल के फायदे जाने मने है। बस, अरंडी तेल से मालिश करे लसिका ग्रंथियो पर तो यह ग्रंथिया सक्रिय हो जाएगी और छोटी मोटी तकलीफो से बचा के रखेगी।
  • गर्भावस्था में पेट का भाग फूल जाता है और त्वचा में खिंचाव आने से दिखाव बिगड़ जाता है. ऐसे में अरंडी तेल को गर्म करे और थोड़ा शहद और मुलतानी मिट्टी मिला के लेप करे और एक पट्टी बाँध के एक घंटे तक रखे। 
  • कई बार ऐसा होता है की गर्भदान की विधि याने लेबर शुरू करने के लिए गर्भवती महिला को एक चम्मच कैस्टर आयिल पिलाया जाए तो जल्दी से लेबर आता है और गर्भदान भी कम कष्टदाय होता है। मगर अरंडी के तेल के नुकसान भी है तो संभाल के उपयोग करे या तो ना ही करे गर्भदान के लिए। 
  • Castor oil in pregnancy in hindi: गर्भवती महिला कैस्टर आयिल से मालिश करे तो उसको विटामिन A,ओमेगा 6 और 9 मिल जाता है | कैस्टर आयिल से क़ब्ज़ ख़तम हो जाता है। गर्भवती महिला के लिए क़ब्ज़ की परेशानी रहती है तो एक चम्मच सेवन करे। 
  • गर्भावस्था की शुरआत हो तो अरंडी के तेल के नुकसान में ऐसा होता है की गर्भपात हो सकता है। सिर्फ़ बाहरी उपयोग करे। इसका सेवन ना करे।

( और पढ़े - गर्भवती महिलाये करे अपनी देखभाल कुछ इस प्रकार )

अरंडी के तेल के लाभ है छोटे बच्चो के लिए तो अरंडी के तेल के नुकसान भी है। सोच समझ के उपयोग करे। बाहरुणी उपयोग में कोई नुकसान नहीं है मगर पेट में जाए तो गड़बड़ हो सकती है।

Tags: #castor oil benefits and side effects in hindi #Arandi ke tel ke fayde aur nuksan upyog labh upay in hindi #arandi tel ke upyog #arandi ka tel in pregnancy #arandi ka tel price in india #castor oil in hindi translation #castor oil in hindi price #castor oil in hindi benefits #arandi ka tel patanjali #castor in hindi

Loading...

Leave a Comment

Your Name

Comment

1 Comments

nari, Apr 19, 2018

arandi ke tel ke fayde bahut achche se bataye gaye hai